DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारमुजफ्फरपुर: सेंट्रल जेल की सुरक्षा पर उठे सवाल, हार्डकोर नक्सलियों व शराब धंधेबाज से मोबाइल व सीम बरामद

मुजफ्फरपुर: सेंट्रल जेल की सुरक्षा पर उठे सवाल, हार्डकोर नक्सलियों व शराब धंधेबाज से मोबाइल व सीम बरामद

मुजफ्फरपुर हिन्दुस्तान टीमMalay Ojha
Sat, 23 Oct 2021 10:35 PM
मुजफ्फरपुर: सेंट्रल जेल की सुरक्षा पर उठे सवाल, हार्डकोर नक्सलियों व शराब धंधेबाज से मोबाइल व सीम बरामद

शहीद खुदीराम बोस सेंट्रल जेल में बंद दो हार्डकोर नक्सलियों व एक शराब धंधेबाज से पास से मोबाइल, सीम, बैट्री व चार्जर बरामद किए गए हैं। नक्सली रोहित से मोबाइल व सीम बरामद किए गए। नक्सली लालबाबू सहनी उर्फ भास्कर से चार्जर बरामद किया गया। रोहित सहनी वैशाली के सदर थाना के काजीपुर थाथन व भास्कर शिवहर के तरियानी थाना के औरा मलिकाना गांव का रहने वाला है। वहीं, आर्म्स एक्ट में बंद शराब धंधेबाज अभ्यानंद शर्मा उर्फ टिंकू शर्मा के पास से मोबाइल, बैट्री व सीम बरामद किया गया। वह सरैया के पोखरैरा का रहने वाला है।

इस संबंध में तीनों के खिलाफ जेल अधीक्षक ब्रजेश सिंह मेहता ने मिठनपुरा थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। इसके मुताबिक, गत 21 अक्टूबर की जेल में रात नौ से 11 बजे के बीच तलाशी अभियान चलाया गया। जेल उपाधीक्षक, सहायक अधीक्षक व कक्षपालों ने वार्डों में तलाशी ली थी। टी-सेल संख्या एक में बंद टिंकू शर्मा के पास से मोबाइल, बैट्री व सीम बरामद किया गया। रोहित के पास से मोबाइल, बैट्री व सीम और भास्कर के पास से मोबाइल चार्जर बरामद किया गया। रोहित कुख्यात नक्सली मुसाफिर सहनी का पुत्र है। लेवी वसूली, नक्सली गतिविधियों के अलावा कई विध्वंसक कार्रवाई में  दोनों के नाम आ चुके हैं।

चुन्नू ठाकुर गिरोह से जुड़ा है टिंकू

जेल में बंद शराब धंधेबाज टिंकू शर्मा चुन्नू ठाकुर गिरोह से जुड़ा है। करजा पुलिस ने बीते 23 फरवरी को रसूलपुर में छापेमारी की थी। इस दौरान विदेशी शराब व हथियार के साथ कई आरोपित गिरफ्तार किए गए थे। तत्कालीन दारोगा बीके यादव के बयान पर टिंकू समेत आठ के खिलाफ करजा थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी। एफआईआर में चुन्नू ठाकुर गिरोह का जिक्र किया गया था।

जेल की सुरक्षा पर उठे सवाल

सेंट्रल जेल में नक्सलियों व शराब धंधेबाज से मोबाइल बरामद होने से जेल की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। इस आशंका को बल मिल रहा है कि नक्सली व शराब माफिया जेल से ही आपराधिक साजिश रच रहे हैं। लॉकडाउन को लेकर अधिकांश बंदियों की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हो रही है। सीमित संख्या में बंदियों को सदेह कोर्ट में पेश किया जा रहा है। जेल में प्रवेश के दौरान बंदियों की कई स्तर पर जांच की जाती है, लेकिन तीनों के पास मोबाइल व अन्य सामान बरामद होने से जेल कर्मी भी शक के दायरे में आ गए हैं।

सीडीआर के आधार पर होगी कार्रवाई

जब्त मोबाइल व सीम की जांच के दौरान सीडीआर निकाला जाएगा। इसके लिए जेल प्रशासन व पुलिस ने तैयारी शुरू कर दी है। सीडीआर के आधार तीनों से बात करने वालों की सूची तैयार कर पुलिस जांच करेगी। मोबाइल पर बातचीत का ब्योरा भी जुटाया जा रहा है। जेलर ने बताया कि सीडीआर जारी होने के बाद आगे की जांच की जाएगी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें