ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारजेल में छठ मना रहे कैदी, डूबते सूर्य को देंगे अर्घ्य, प्रशासन ने किए खास इंतजाम

जेल में छठ मना रहे कैदी, डूबते सूर्य को देंगे अर्घ्य, प्रशासन ने किए खास इंतजाम

बक्सर जिले में कैदी भी छठ व्रत रख रहे हैं। और जेल में छठ मना रहे है। आज शाम 17 कैदी डूबते सूर्य को अर्घ्य देंगे। जिसके लिए जेल प्रशासन ने पूजा की व्यवस्था की है। जेल में बने तालाब में अर्घ्य देंगे।

जेल में छठ मना रहे कैदी, डूबते सूर्य को देंगे अर्घ्य, प्रशासन ने किए खास इंतजाम
Sandeepहिन्दुस्तान,बक्सरSun, 19 Nov 2023 03:24 PM
ऐप पर पढ़ें

छठ मइया के प्रति लोक की अगाध श्रद्धा है। लोग कहीं किसी हाल में रहें, छठ व्रत नहीं छोड़ते। इसी श्रद्धा का नतीजा है कि यहां की विभिन्न जेलों में बंद 17 कैदी भी छठ व्रत कर रहे हैं। इनमें नौ महिलाएं हैं, जबकि आठ पुरुष। इसके चलते इन दिनों जेलों के भीतर छठ के गीत सुनाई पड़ रहे हैं। केंद्रीय कारा के अधीक्षक राजीव कुमार ने शनिवार को बताया कि जेल में बंद नौ पुरुष कैदी इस बार छठ व्रत कर रहे हैं।

जेल परिसर के अंदर स्थित तालाब की साफ-सफाई का काम पहले ही पूरा हो चुका है। इसी तालाब किनारे सभी भगवान भास्कर को अर्घ्य देंगे। वहीं ओपन जेल के तीन कैदी छठ व्रत कर रहे हैं। ये तीनों बाहर गंगा किनारे बने घाट पर अर्घ्य अर्पित करेंगे। इधर, महिला जेल में बंद पांच महिला कैदियों ने भी छठ व्रत का अनुष्ठान किया है। महिला जेल परिसर के भीतर बने सिमेंटेड तालाब में ये सभी भगवान भास्कर को अर्घ्य अर्पित करेंगी। 

जेल अधीक्षक ने बताया कि सभी कैदियों को जेल प्रशासन की तरफ से छठ व्रत के लिए कपड़ा से लेकर पूजन सामग्री तक उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने बताया कि व्रती कैदियों की व्रत से संबंधित हर आवश्यक सुविधा का ख्याल रखा जा रहा है। जेलों के भीतर इस समय छठ के गीत सुनाई पड़ रहे हैं। अन्य कैदी भी इन गीतों के असर से अछूते नहीं हैं।

छठ व्रती आज अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को पहला अर्घ्य देंगे। इसके लिए सभी छठ घाट सज-धजकर तैयार हो चुके हैं। किसी को कोई परेशानी न हो। इसे लेकर नगर परिषद ने हर घाट की सफाई के साथ-साथ तालाबों का पानी भी साफ किया है। वहीं, तालाब में उतरने के लिए सुरक्षित सीढ़ी बनाई गई हैं। कोई गहरे पानी में न जाए, इसके लिए लाल फीते से सुरक्षा घेरा भी बनाया गया है। छठिया पोखरा पर व्रत करना शुभ माना जाता है। जिसके चलते सबसे अधिक व्रती छठिया पोखरा पर जुटती हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें