DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राफेल पर SC के फैसले से गरमाई बिहार की सियासत, तेजस्वी ने दिया ये बयान

राफेल विमान सौदे की जांच की मांग करने वाली याचिकाओं को सवोर्च्च न्यायालय द्वारा शुक्रवार को खारिज किए जाने के बाद बिहार की सियासत गरमा गई है। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने जहां इस मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग की है, वहीं राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राजद नेता तेजस्वी यादव से राफेल मामले में देश को गुमराह करने के लिए जनता से माफी मांगने को कहा है। 

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राफेल मुद्दे पर सवोर्च्च न्यायालय के फैसले पर कहा, “अगर भाजपा को लगता है कि वह पवित्र है तो वह जेपीसी बनाने से क्यों भाग रही है। राजद की प्रारंभ से ही मांग रही है कि राफेल विमान मामले की जांच जेपीसी से कराई जाए। इस जांच के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।” 

बिहार के उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने राफेल मामले में सवोर्च्च न्यायालय के फैसले पर ट्वीट किया, “'खोदा पहाड़ निकली चुहिया और वह भी मरी हुई' वाली कहावत चरितार्थ हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ईमानदारी पर कोई उंगली नहीं उठा सकता। राहुल जी आपके भूचाल का क्या हुआ?” 

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “चौकीदार चोर है या 'चोर मचाए शोर है'।”

जनता दल (युनाइटेड) ने कांग्रेस अध्यक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव से देश की जनता को गुमराह करने के लिए माफी मांगने की बात कही है। 

जद (यू) प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा, “राफेल विमान सौदे में किसी तरह की गड़बड़ी को सवार्ेच्च न्यायालय द्वारा खारिज किए जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और तेजस्वी यादव को सैनिकों का मनोबल तोड़ने के लिए देश से 'दंडवत' होकर माफी मांगनी चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा, “इन दो 'युवराजों' की गलतबयानी के कारण देश की बदनामी हुई है।”

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोचार् के प्रमुख जीतन राम मांझी ने सवोर्च्च न्यायालय के फैसले पर कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है, और ऐसे में सरकार जेपीसी से क्यों भाग रही है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:political leaders reaction on supreme court decision on rafale deal