DA Image
5 अप्रैल, 2020|11:53|IST

अगली स्टोरी

मानवता शर्मसार: किरायेदारों को परेशान कर रहे मकान मालिक

file photo

राजधानी के आकस्मिक कामों में लगे लोगों के लिए भी कोरोना का कहर जुल्म ढा रहा है। अस्पताल और नर्सिंग में काम करने वाले स्टाफ को बड़ी परेशानी झेलनी पड़ रही है। घरों में जाने पर उन्हें मकान मालिक के गुस्से का शिकार होना पड़ रहा है। शहर के अलग-अलग हिस्से में रह रहे लोगों को लगातार अपने घर जाने को कहा जा रहा है। किसी भी तरह के हॉस्पिटल में काम करने वालों से लोग नफरत कर रहे हैं। हॉस्टलों में चलने वाले मेस को बंद कर दिया गया है। साथ ही पानी भी बंद करने की धमकी दी जा रही है। अस्पताल में काम करने के अलावा मेडिकल की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी भी इसका दंश झेल रहे हैं। कई स्थानों पर ऐसे हालात बन रहे हैं कि लोग झूंड बनाकर पैदल ही गांव की ओर कूच कर जा रहे हैं। अपने गांव से वाहन बुलाने की कोशिश भी की जा रही है। मगर बंदी के मद्देनजर यह पूरी तरह असंभव दिखता है।

होमियोपैथी के स्टाफ पर भी संकट 
एलोपैथ के साथ-साथ होमियोपैथी और आयुर्वेद का काम करने वाले डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ पर भी संकट है। उन्हें भी लगातार घर से बाहर जाने के लिए टोका जा रहा है। हॉस्पिटल ड्रेस में बाहर निकलने पर ही लोग काम पर नहीं जाने की नसीहत दे रहे हैं। साथ ही हॉस्टल तक खाली करने को कह रहे हैं।

शिकायत करने पर पिटने की धमकी
राजधानी में मेडिकल स्टाफ किसी से शिकायत भी नहीं कर पा रहे हैं। उन्हें पिटने का भी डर है। मकान मालिक बता रहे हैं कि यदि किसी के पास शिकायत की तो सारा सामान जब्त कर लेंगे। सुरक्षा के तौर पर जमा पूंजी भी नहीं लौटाएंगे। पुलिस और प्रशासन के पास शिकायत करने से ये लोग लगातार बच रहे हैं। 

काम पर जाने को नहीं मिल रही गाड़ी, पैदल चलने की तैयारी 
बाइपास पर चांगर में रहने वाले विद्यार्थी राजधानी में अपने दूर से रिस्तेदारों को ढूंढ रहे हैं। गाड़ी नहीं मिलने पर 15 किलोमीटर तक पैदल जाने की तैयारी कर चुके हैं। इनका भोजन-पानी सब बंद हैं। जेडी मेमोरियल होमियोपैथी मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई करने वाले ये डॉक्टर मधेपुरा के रहने वालें हैं। कहते हैं कि गांव से मंगलवार को गाड़ी मंगायी थी। मगर रास्ते से ही लौटा दी गई। अब पटना से ढाई सौ किलोमीटर जाना संभव नहीं है। शहर में ही आशियाना ढूंढ रहे हैं। यदि कुछ नहीं मिला तो कुछ साथियों के साथ पैदल ही निकलना पड़ेगा। भूखे पटना में रहना संभव नहीं है। घर के बाहर किए जाने का डर है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:people facing problems related to essential services in Corona war in Patna Landlords harassing tenants