Patnas big Criminal have begun to resort to contract killers - क्राइम ट्रेंड: पटना में 15 से 20 हजार में हत्या कर दे रहे हैं सुपारी किलर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्राइम ट्रेंड: पटना में 15 से 20 हजार में हत्या कर दे रहे हैं सुपारी किलर

पटना के बड़े अपराधियों ने कांट्रैक्ट किलरों का सहारा लेना शुरू कर दिया है। आपसी रंजिश में दूसरों को मौत के घाट उतारने और बदला लेने की नीयत से भी कुछ असामाजिक तत्व इनका सहारा ले रहे हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि ऐसे अपराधी मामूली रकम लेकर हत्या कर दे रहे हैं। पिछले दिनों हुईं दो हत्याओं में अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद पता चला कि हर कांट्रैक्ट किलर को 15-20 हजार रुपए मिले थे। 

हाल में पटना में हुई कई खूनी वारदात में ठेके पर हत्या करने वाले खतरनाक अपराधियों के हाथ होने की बात सामने आयी है। पुलिस उनकी तलाश में है, लेकिन कांट्रैक्ट किलर हमेशा जांच टीम को चकमा देने में सफल हो जाते हैं। वारदात को अंजाम देकर वे बिहार के बाहर भाग जाते हैं। पिछले पांच साल में पटना में पनपे कांट्रैक्ट किलरों की उम्र काफी कम है। कई बार नये कपड़ों और अपने निजी शौक पूरा करने के लिये ये आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते हैं। 

कई ऐसे भी अपराधी हैं जिनका पूर्व में कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था। लिहाजा उन्हें पकड़ना पुलिस के लिये भी मुश्किल साबित होता है। कांट्रैक्ट किलर वारदात के वक्त पुलिस से बचने की पूरी कोशिश करते हैं। कई घटनाओं में यह बात आयी है कि अपराधी जान-बूझकर मुंह पर नकाब बांधते हैं, ताकि उनकी पहचान न हो सके। सुपारी किलर प्रोफेशनल तरीके से हत्या की घटना को अंजाम देते हैं। ज्यादातर घटनाओं में सिर में गोली मारी जाती है, ताकि सामने वाला बच न सके। जानकार बताते हैं कि किलरों की पहचान उनके इस क्राइम ट्रेंड से भी की जाती है कि वे अपने दुश्मन को सिर में ही गोली मारते हैं। भागलपुर के डीआईजी विकास वैभव ने कहा कि ऐसे कांट्रैक्ट किलरों को पकड़ना बेहद जरूरी है। नागा हत्याकांड में भी कम उम्र के सुपारी किलरों ने घटना को अंजाम दिया था। 

केस 1
सात जुलाई, 2015 को कदमकुआं थाने के दलदली रोड में बीजेपी नेता नागा की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इसमें पुलिस ने अंजुम इकबाल, अलाउद्दीन इकबाल और राजा को पकड़ा था। हर अपराधी को 10-15 हजार रुपए दिये गये थे।

केस 2
पटना सिटी के चौक थाना इलाके में 12 अप्रैल 2019 की शाम दालमोट व्यवसायी एवं जदयू नेता शंकर पटेल की हत्या कर दी गई थी। घटना के बाद जब पुलिस ने चार अपराधियों को पकड़ा तो पता चला कि बेउर जेल से कांट्रैक्ट देकर शंकर को मौत के घाट उतरवाया गया। एक किलर को 15-20 हजार रुपए दिये गये थे।

केस 3
गर्दनीबाग थाना क्षेत्र में 2018 में पटना नगर निगम की पूर्व उप महापौर के पति दीना गोप की हत्या कर दी गयी थी। इस हाईप्रोफाइल मामले में भी सुपारी किलरों का हाथ था।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Patnas big Criminal have begun to resort to contract killers