DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार: बिना जांच पुलिस ने दंपती को फर्जी आईएएस बना भेजा जेल

patna police booked a couple for being fake IAS without permission (Symbolic image)

दिल्ली के एक दंपती को फर्जी आईएएस बताकर जेल भेजने के मामले में पटना पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं। प्रभारी जोनल आईजी बच्चू सिंह मीणा ने पीड़ितों की फरियाद के बाद मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिये हैं। डीआईजी और एसपी सिटी मामले की जांच करेंगे। पुलिस सूत्रों की मानें तो आईजी द्वारा जारी पत्र में कई ऐसे पहलुओं का जिक्र है जिन पर पटना पुलिस ने जांच ही नहीं की और दंपती को दिल्ली से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। चिट्ठी इस ओर इशारा कर रही है कि पुलिस ने यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार के कोतवाली थाने में केस दर्ज कराने के बाद एकतरफा कार्रवाई की। सिर्फ कोतवाली ही नहीं, बल्कि बुद्धा कॉलोनी थाने में दर्ज केस में भी ऐसा ही हुआ। बुद्धा कॉलोनी में हुए केस के आईओ व तत्कालीन दारोगा मनीष कुमार ने बिना एसपी सिटी के आदेश के ही मिथिलेश सिंह और उनके पति निर्भय सिंह पर चार्जशीट दाखिल कर दी। अगर मामले की सही से जांच होगी तो कोतवाली थाने के तत्कालीन दारोगा और केस के आईओ विक्रमादित्य झा और बुद्धाकॉलोनी थाने के तत्कालीन दारोगा मनीष कुमार पर गाज गिर सकती है। जल्द ही इस मामले की रिपोर्ट भी आ सकती है।

बड़े अफसरों की भी नहीं सुनी

अपनी बेटी व दामाद को झूठे मुकदमे में फंसाये जाने के बाद मिथिलेश के रिटायर फौजी पिता अप्रैल, 2018 से ही बिहार पुलिस के बड़े अफसरों के पास चक्कर लगा रहे हैं। आला अफसरों ने अधीनस्त पुलिस अफसरों को जांच के लिए चिट्ठी लिखी थी, लेकिन उसे दरकिनार कर दिया गया। 

बिहार में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड में फर्जीवाड़ा, चार जिलों में अलर्ट

आईजी की चिट्ठी में ये पहलू

जब आरोपी पक्ष यानी मिथिलेश सिंह और निर्भय सिंह ने कहा कि वे आज तक बिहार आये ही नहीं तो क्या इस पहलू पर छानबीन की गयी? .

- आरोप लगा कि तारामंडल के पास निर्भय ने कांग्रेस नेता ललन से लाखों रुपए लिये। निर्भय ने कहा कि जिस दिन रुपए लेने की बात है उस रोज का सीसीटीवी कैमरा खंगाल लिया जाये कि वे वहां थे या नहीं? पुलिस ने फुटेज खंगाली थी या नहीं? 

- निर्भय सिंह के जिस दिन पटना आने की बात कही जा रही है उस दिन वे अपने काम पर थे। उन्होंने हाजिरी रजिस्टर व अन्य सबूत पेश किये थे। इस पर जांच हुई? 

- क्या आरोपितो के मोबाइल का कॉल डीटेल रिकॉर्ड या टावर लोकेशन खंगाला गया था कि वे कभी पटना आये थे या नहीं? 

- केस की डायरी में घटनास्थल का जिक्र है। बिना जांचे-परखे घटनास्थल के सोना मेडिकल हॉल के पास होने की बात पर पुलिस ने कैसे मुहर लगा दी? 

मुख्यमंत्री ने इंडो-नेपाल सीमा सड़क का किया हवाई सर्वे, कार्य पर जताया संतोष

खुलेंगी परतें 

- यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के मामले में आईजी ने दिए जांच के आदेश.

- दिल्ली के दंपती की फरियाद पर डीआईजी व एसपी सिटी करेंगे जांच.

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Patna police booked the couple for imposing fake IAS without investigation