DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › पटना: मीठापुर बस स्टैंड बंद, यात्रियों को अब बस पकड़ने के लिए बैरिया जाना होगा, प्रशासन ने बस मालिकों को 48 घंटे की दी मोहलत
बिहार

पटना: मीठापुर बस स्टैंड बंद, यात्रियों को अब बस पकड़ने के लिए बैरिया जाना होगा, प्रशासन ने बस मालिकों को 48 घंटे की दी मोहलत

पटना, हिन्दुस्तान टीमPublished By: Malay Ojha
Sun, 01 Aug 2021 03:33 PM
पटना: मीठापुर बस स्टैंड बंद, यात्रियों को अब बस पकड़ने के लिए बैरिया जाना होगा, प्रशासन ने बस मालिकों को 48 घंटे की दी मोहलत

बैरिया टर्मिनल से शनिवार को सभी जिलों के लिए बसों का परिचालन शुरू हो गया। जिलाधिकारी पटना डॉ. चंद्रशेखर सिंह के निर्देश पर मीठापुर बस स्टैंड को नवनिर्मित पाटलिपुत्रा बस टर्मिनल में शिफ्ट कर दिया गया है। शनिवार की शाम 5:00 बजे तक राज्य के विभिन्न जिलों के कुल 1320 बसों का परिचालन पाटलिपुत्रा बस टर्मिनल से हुआ। इसके तहत 737 बसों का टर्मिनल में आगमन हुआ तथा 583 बस अपने गंतव्य के लिए टर्मिनल से रवाना हुईं। 

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के भी 52 बसों का परिचालन नवनिर्मित टर्मिनल से हुआ। नालंदा के 115, शेखपुरा के 52,  नवादा 205, जहानाबाद 30 ,मुजफ्फरपुर 117, दरभंगा 72, मधुबनी 57, समस्तीपुर 137, छपरा 48, पूर्णिया 50 व अररिया के लिए 121 बसों सहित अन्य जिलों के लिए भी बसों का परिचालन टर्मिनल से हुआ। 

मीठापुर से बेहतर सुविधाएं हैं टर्मिनल में

टर्मिनल पर 50 शौचालय, 14 मोबाइल शौचालय तथा पेयजल सुविधा 12, यात्री हेल्प डेस्क की सुविधा 2, सुरक्षाकर्मी 60, सफाई कर्मी 42, प्रबंधन शाखा 65, सीसीटीवी 10 की व्यवस्था की गई है।  

प्रशासन ने दो दिनों की दी मोहलत

जिला प्रशासन ने मीठापुर से बसों के संचालन पर अड़े बस मालिकों को कहा है कि अपने संसाधन के साथ अगले दो दिनों के अंदर बैरिया बस टर्मिनल में शिफ्ट कर जाएं। क्योंकि किसी भी कीमत पर मीठापुर से बसों का संचालन नहीं होगा। मीठापुर में प्रशासन ने मजिस्ट्रेट की तैनात कर दी है जो यहां से बसों के परिचालन को रोकेंगे। 

इधर, अनुमंडल पदाधिकारी की ओर से कहा गया है कि मीठापुर से बसों के परिचालन पर रोक लगा दी गई है। प्रशासन का कहना है कि बस मालिकों को बैरिया बस टर्मिनल में मीठापुर से अधिक सुविधाएं प्रदान की गई हैं। वे बैरिया से बसों का परिचालन नहीं करते हैं तो कार्रवाई होगी। डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने कहा है कि यदि बस मालिकों को किसी प्रकार की परेशानी है तो वे प्रशासन के समक्ष अपनी बातों को रखें। उनकी समस्या दूर की जाएंगी।

संबंधित खबरें