ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारहाईकोर्ट ने पटना एसएसपी को लगाई फटकार, 5000 रुपये का लगाया जुर्माना, क्या है मामला? जानिए

हाईकोर्ट ने पटना एसएसपी को लगाई फटकार, 5000 रुपये का लगाया जुर्माना, क्या है मामला? जानिए

हाईकोर्ट ने पटना एसएसपी को फटकार लगाई है। हाईकोर्ट ने कहा कि एसएसपी का अधीनस्थ कर्मचारियों पर नियंत्रण नहीं है। हत्या की आशंका को लेकर दिए गए आवेदन पर क्यों नहीं कोई कार्रवाई की गई।

हाईकोर्ट ने पटना एसएसपी को लगाई फटकार, 5000 रुपये का लगाया जुर्माना, क्या है मामला? जानिए
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,पटनाTue, 30 Jan 2024 10:44 PM
ऐप पर पढ़ें

पटना हाईकोर्ट ने पटना एसएसपी को फटकार लगाई है। हाईकोर्ट ने कहा कि एसएसपी का अधीनस्थ कर्मचारियों पर नियंत्रण नहीं है। हत्या की आशंका को लेकर दिए गए आवेदन पर क्यों नहीं कोई कार्रवाई की गई। जब कोर्ट ने मामले पर सुनवाई शुरू की तो पुलिस ने पति को गिफ्तार कर जेल भेज दिया, लेकिन हत्या के बिंदु से जांच नहीं की। जबकि एफएसएल जांच में जब्त किए गए नमूने में मिले खून के मृतक के खून से मिलान होने की रिपोर्ट दी। कोर्ट ने अनुसंधान में कई खामियां पाते हुए एसएसपी पर पांच हजार का जुर्माना लगाया। जुर्माना राशि को पटना हाई कोर्ट लीगल सर्विस ऑथरिटी में जमा करने का आदेश दिया। 

न्यायमूर्ति पीबी बजन्थरी व न्यायमूर्ति रमेश चंद मालवीय की खंडपीठ ने मृतक के पिता मिथिलेश सिंह की ओर से दायर अर्जी पर सुनवाई की। आवेदक के वकील रत्न दीप प्रसाद ने कोर्ट को बताया कि 2 फरवरी 2022 के रात्रि से उनकी पुत्री की कोई खोज-खबर नहीं होने की शिकायत को लेकर एयरपोर्ट थाना में हत्या किये जाने की आशंका को लेकर लिखित शिकायत दी। पुलिस ने शिकायत लेने से इनकार कर दिया था और डांट फटकार कर भगा दिया। 

इसके बाद पिता ने एसएसपी को स्पीड पोस्ट से शिकायत भेजी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की और पति की ओर से गुमसुदगी का रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करा दी। उनका कहना था कि एक सोची समझी साजिश के तहत हत्या की गई है। हत्या करने के पूर्व पति ने अपने चार वर्षीय पुत्र को अपने मां के साथ कही भेज दिया और रात्रि में उसकी हत्या कर दिया। पुलिस ने जांच के लिए बेडरूम में गिरे खून का नमूना तक नहीं लिया। जबकि मृतक के पिता ने पुलिस को खून साफ करने की जानकारी दी। यहां तक कि पति के मोबाइल फोन का सीडीआर जांच तक नहीं किया।

वहीं कोर्ट में उपस्थित एसएसपी ने कोर्ट को बताया कि पति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। उनका कहना था कि एफएसएल जांच रिपोर्ट में खून पाने की बात सामने आई हैं। कोर्ट ने एसएसपी को फटकार लगाते हुए कहा कि हत्या के आशंका के शिकायत को क्यों नहीं दर्ज किया गया। कहा कि तत्कालीन और मौजूदा एसएसपी का अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर कोई नियंत्रण नहीं है। कोर्ट ने पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाते हुए अर्जी को निष्पादित कर दिया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें