DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  पटना में दर्दनाक हादसा, अपार्टमेंट में लगी आग, दम घुटने से मां और बेटे की मौत

बिहारपटना में दर्दनाक हादसा, अपार्टमेंट में लगी आग, दम घुटने से मां और बेटे की मौत

पटना, हिन्दुस्तान टीमPublished By: Malay Ojha
Mon, 19 Apr 2021 08:11 PM
पटना में दर्दनाक हादसा, अपार्टमेंट में लगी आग, दम घुटने से मां और बेटे की मौत

चैती छठ पूजा के दिन सोमवार की सुबह दानापुर थाना क्षेत्र में अगलगी की भयंकर दुर्घटना हुई। आरपीएस मोड़ के पास आर्य समाज रोड स्थित एसकेपुरम लेन नंबर दो में शॉट सर्किट से सुशीला आनंद होम अपार्टमेंट के ऊपरी तल्ले में लगी आग के बीच धमाके के साथ दो सिलेंडर फट गये। बाहर से बंद फ्लैट के अंदर धुएं का गुबार छाने से गहरी नींद में सो रहे मां प्रियंका 35 व बेटे यज्ञ 12 की दम घुटने से मौत हो गई। सिलेंडर ब्लास्ट होने से पूरा इलाका दहल उठा। सूचना के बाद दमकल की आठ गाड़ियों के साथ पहुंचे दमकल कर्मियों ने तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस बीच फ्लैट में रखी लाखों की संपत्ति जलकर नष्ट हो गई। मौके पर पहुंची दानापुर थाने की पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 

पूजा के लिए फूल लाने गई थीं प्रियंका की मां
बताया गया है कि प्रियंका की ससुराल एजी कॉलोनी में हैं, जबकि उनके पिता बबन शर्मा अपनी पत्नी अरुण शर्मा के साथ एसकेपुरम लेन नंबर दो स्थित सुशीला आनंद होम अपार्टमेंट के ऊपरी तल्ले में रहते हैं। प्रियंका के पति राकेश कुमार छत्तीसगढ़ की एक कंपनी में इंजीनियर हैं। पड़ोसी के यहां हो रही चैती छठ पूजा में शरीक होने के लिए मां ने अपनी बेटी प्रियंका को बुलाया था। इस पर वह रविवार को बेटे यज्ञ के साथ मां के पास आयीं थीं। दो दिन पूर्व प्रियंका के पिता बबन शर्मा अपने गांव चले गये थे। सोमवार की सुबह प्रियंका अपने बेटे के साथ फ्लैट के अंदर गहरी नींद में सो रही थीं। सुबह करीब पांच बजे उनकी मां पूजा के लिए फूल लाने बाहर जाने लगीं तो बाहर से फ्लैट का दरवाजा बंद कर दिया। इसके कुछ ही देर बाद फ्लैट के अंदर शार्ट सर्किट होने से आग लग गई। देखते ही देखते आग फ्लैट के अंदर फैल गई। इसी बीच धमाके के साथ फ्लैट के अंदर दो सिलेंडर फट गये, जबकि कमरे में धुएं का गुबार छा उठा। इसके चलते मां-बेटे की दम घुटने से मौत हो गई।

हर कोशिश हो गई नाकाम
फ्लैट से उठ रही आग की लपटों के बीच धमाके की जोरदार आवाज जिस किसी के कानों में गूंजी वह थर्रा उठा। दौड़ते-भागते लोग मौके पर पहुंचे और सूचना पुलिस और दमकल को दी। दमकल कर्मियों के साथ लोगों ने बाहर से बंद फ्लैट को खोलने का भरसक प्रयास किया लेकिन हर कोशिशें नाकाम रहीं। आग की लपटों के बीच हर कोई पीछे हटने को मजबूर था। अपार्टमेंट के सबसे ऊपरी पांचवें तल्ले पर आग लगने से फायर बिग्रेड को आग बुझाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा, जिसको देखते हुए हाईड्रोलिक अग्निशमन की गाड़ी को भी बुलाना पड़ा। करीब तीन घंटे बाद आग पर काबू पा गया लेकिन तक तक काफी देर हो चुकी थी। फ्लैट के अंदर मां-बेटे की मौत हो चुकी थी। दोनों को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

छत के ऊपर था पेंट हाउस
बताया गया है कि अपार्टमेंट की छत पर पेंट हाउस बनाकर पंडारक निवासी बबन शर्मा अपनी पत्नी अरुणा देवी के साथ रहते थे। पेंट हाउस उडेन का बना हुआ था। जिससे देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। इस दरम्यान दो गैस सिलेंडर भी विस्फोट कर गया। दानापुर फायर ऑफिसर इंन्द्रजीत कुमार ने बताया कि धुआं से दम घुटने के कारण बबन शर्मा के बेटी व नाती की मौत हो गई। हालांकि, गंभीरवस्था में दोनों को बाहर निकाल लिया गया था। इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया, लेकिन दोनों की मौत हो गई। अगलगी में लाखों रूपए के संपति जलकर राख हो गई। दानापुर थानाध्यक्ष अजीत कुमार साहा ने बताया कि अगलगी से अपार्टमेंट में अफरातफरी मच गई थी। सभी जान बचाने और आग बुझाने में लग रहे। करीब तीन घंटे बाद आग पर काबू पाया गया।

लाखों की संपत्ति जलकर राख
बताया गया है कि अगलगी की इस घटना में घर में रखी गई लाखों की संपत्ति जलकर नष्ट हो गई है। इसमें कपड़े, बर्तन, जेवर, नकदी तथा कीमती सामान शामिल है। अगलकी में हुई क्षति का आकलन पुलिस और दमकल टीम द्वारा किया जा रहा था।

बेटी-नाती का शव देखकर चीख पड़ीं अरुण देवी
फूल लेकर जब अरुण देवी अपने फ्लैट पर पहुंची तो वहां लोगों की भीड़ जमा थी। हर कोई चीख चिल्ला रहा था। आग की लपटें दूर तक उठ रहीं थीं। ऐसे में अरुण देवी पूरी तरह से बदहवाश हो गईं। वह जोर जोर से चिल्ला रहीं थीं कोई मेरी बेटी और नाती को बचा लो। इस करुण क्रंदन के बीच जब उन्हें पता चला कि दोनों की दम घुटने से मौत हो चुकी है तो यह सुनकर वह दहाड़े मारकर रोने लगीं। कुद ही देर में वह गश खाकर गिर पड़ीं। लोगों ने पानी का छींटा मारकर उन्हें सामान्य किया तो उनकी आंखों के आगे बेटी व नाती का शव दिखा, जिससे लिपटकर वह बिलख रहीं थीं।

पंडारक व एजी कॉलोनी में भी पसरा मातम
अगलगी की घटना में मां-बेटे की मौत होने से हर कोई झकझोर उठा। मां के साथ बेटे की मौत होने से पंडारक, एजी कॉलोनी के साथ ही आरपीएस मोड़ इलाके में मातम पसर गया र्है। सभी इस अनहोनी घटना को लेकर स्तब्ध थे। 

संबंधित खबरें