ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपासवर्ड, ID, लोकेशन इनवैलिड; ऑनलाइन हाजिरी नहीं बना पा रहे टीचर, ई-शिक्षा कोष एप में आई तकनीकी खामी

पासवर्ड, ID, लोकेशन इनवैलिड; ऑनलाइन हाजिरी नहीं बना पा रहे टीचर, ई-शिक्षा कोष एप में आई तकनीकी खामी

शिक्षा विभाग ने 25 जून से सभी टीचर्स को ई शिक्षा एप पोर्टल पर ऑनलाइन हाजिरी लगानी है। लेकिन पहले दिन कुछ शिक्षक ही हाजिरी लगा। और ज्यादातर असफल साबित हुए। तकनीकी खामी से दिक्कत का सामना करना पड़ा।

पासवर्ड, ID, लोकेशन इनवैलिड; ऑनलाइन हाजिरी नहीं बना पा रहे टीचर, ई-शिक्षा कोष एप में आई तकनीकी खामी
Sandeepहिन्दुस्तान,भभुआTue, 25 Jun 2024 10:50 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार शिक्षा विभाग के निर्देश पर मंगलवार को ऑनलाइन हाजिरी बनाने में कुछ शिक्षक ही सफल हो सके। विभाग ने शिक्षकों को 25 जून से ई शिक्षा एप पोर्टल पर ऑनलाइन अटेंडेंस बनाने का निर्देश दिया था। मंगलवार की सुबह जब शिक्षक पोर्टल खोलने लगे तो किसी का आईडी पासवर्ड इनवैलिड बता रहा था तो किसी के मोबाइल पर पोर्टल नहीं खुल रहा था। कुछ शिक्षकों ने पोर्टल खोला तो उनके विद्यालय का लोकेशन गलत बता रहा था। इस वजह से अधिकतर शिक्षकों ने ऑनलाइन अटेंडेंस नहीं बनाया। उन्हें पुरानी विधि से रजिस्टर पर हाजिरी बनानी पड़ी। 

शिक्षकों ने बताया कि विभाग की ओर से ऑनलाइन अटेंडेंस बनाने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए ई-शिक्षा कोष एप मोबाइल में डाउनलोड किया गया है। विभाग से मिले यूजर आईडी पासवर्ड के माध्यम से उन्हें हाजिरी बनानी थी। लॉगिन करने के बाद मार्क अटेंडेंस का ऑप्शन आ रहा है, जिसे क्लिक करने पर लोकेशन बताए और इस लोकेशन पर अपने विद्यालय एवं फोटो के साथ क्लिक करना है। इसके बाद ऑनलाइन हाजिरी बन जाएगी। शिक्षकों ने बताया कि हाजिरी की प्रक्रिया 6:20 से 6:30 बजे तक पूरी कर लेनी थी। मंगलवार को पहला दिन था। लेकिन, सर्वर काम नहीं करने के कारण ऑनलाइन हाजिरी नहीं बन सकी। 

राजकीयकृत मध्य विद्यालय अखलासपुर के प्रधानाध्यापक संजू कुमार सिंह ने बताया कि उनके विद्यालय में 22 शिक्षक कार्यरत हैं। सभी ने ऑनलाइन हाजिरी बनाने का प्रयास किया। लेकिन, तकनीकी दिक्कत आने से सिर्फ एक शिक्षक गौतम कुमार सिंह की हाजिरी ऑनलाइन बन सकी। शिक्षकों का कहना था कि जो शिक्षक बीपीएससी से चयनित होकर विद्यालयों में योगदान किए हैं, उन्हें आईडी पासवर्ड अभी प्राप्त नहीं हुआ है। 

शिक्षकों ने बताया कि जो शिक्षक पदोन्नति पाकर दूसरे विद्यालय से आकर प्रधानाध्यापक का पदभार ग्रहण किए हैं। और कार्य कर रहे हैं वह जब ऑनलाइन अटेंडेंस के लिए ई- शिक्षा कोष एप खोल रहे हैं, तो उनका लोकेशन पुराना विद्यालय दिखा रहा है। ऐसे में ऑनलाइन अटेंडेंस बनाने में उन्हें काफी दिक्कत आ रही है। उदासी देवी प्लस टू स्कूल के प्रधानाध्यापक विष्णु शंकर उपाध्याय और शिक्षक ज्ञान प्रकाश सिंह ने बताया कि उनके विद्यालय के शिक्षक द्वारा काफी प्रयास किया गया, लेकिन ऑनलाइन अटेंडेंस किसी का नहीं बन सका।

 एप डाउनलोड करने के बाद जब यूजर आईडी एवं पासवर्ड डाला गया, तो विद्यालय का लोकेशन नहीं बता रहा था। इस वजह से ऑनलाइन अटेंडेंस नहीं बन सका है। कई शिक्षकों का कहना था कि विभाग की ओर से ऑनलाइन अटेंडेंस बनाने का निर्देश दिया गया है। लेकिन, अभी उप पूरी तरह कार्य नहीं कर रहा है। धीरे-धीरे जब कार्य करने लगेगा, तब ऑनलाइन अटेंडेंस आसानी से बनना शुरू हो जाएगा। शिक्षकों का कहना था कि विभाग की ओर से भी तीन महीने तक इसको ट्रायल में रखा गया है। इस दौरान अगर ऑनलाइन अटेंडेंस नहीं बनता है, तो रजिस्टर पर मैन्युअल बनेगा। आज जिन शिक्षकों का ऑनलाइन अटेंडेंस नहीं बना है, वह रजिस्टर पर अपनी हाजिरी बनाएं हैं।