Friday, January 28, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारविस परिसर में मंत्री जीवेश मिश्रा की गाड़ी रोकने की जांच का आदेश, डीजीपी से मांगी कल सुबह तक रिपोर्ट

विस परिसर में मंत्री जीवेश मिश्रा की गाड़ी रोकने की जांच का आदेश, डीजीपी से मांगी कल सुबह तक रिपोर्ट

पटना | हिन्दुस्तान ब्यूरोYogesh Yadav
Thu, 02 Dec 2021 10:19 PM
विस परिसर में मंत्री जीवेश मिश्रा की गाड़ी रोकने की जांच का आदेश, डीजीपी से मांगी कल सुबह तक रिपोर्ट

इस खबर को सुनें

विधानसभा की कार्यवाही में भाग लेने जा रहे श्रम मंत्री जीवेश मिश्रा की गाड़ी विस परिसर में रोकने का मामला गहरा गया है। मंत्री ने इसे अपना और सरकार का अपमान बताते हुए विस में मामला उठाया। इस मुद्दे पर उन्हें विपक्ष का भी साथ मिला और सदन में जमकर हो-हंगामा हुआ। वहीं, विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने डीजीपी एसके सिंघल और गृह के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद को मामले की जांच कर शुक्रवार सुबह 10 बजे तक रिपोर्ट मांगी है। साथ ही दोषियों को चिह्नित कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। 

इससे पूर्व सदन में प्रश्नकाल के दौरान मंत्री द्वारा मामला उठाने पर पूरा विपक्ष उनके समर्थन में वेल में उतर आया और जमकर शोरशराबा किया। अफसरशाही के बेलगाम होने का आरोप लगते हुए विपक्ष के सदस्यों ने अपनी बात रखी। मंत्री ने कहा कि उनकी गाड़ी रोकी गयी तो लगा कि सीएम या विस अध्यक्ष आ रहे हैं लेकिन डीएम-एसपी की गाड़ी पास कराने के लिए उन्हें रोका गया। आसन तय करे कि डीएम-एसपी बड़ा, मंत्री बड़ा कि सरकार बड़ी। शोर-शराबे के बीच सभाध्यक्ष श्री सिन्हा ने कहा कि विधायकों की प्रतिष्ठा सर्वोपरि है। किसी को भी बेलगाम नहीं होने दिया जायेगा।

संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने भी मंत्री के साथ हुई घटना को गंभीर बताया और स्पष्ट किया कि सरकार ने प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश जारी किए हैं। सभाध्यक्ष ने सदन की कमेटी से मामले की जांच कराने की घोषणा की। हंगामा बढ़ने पर 11.37 पर कार्यवाही 11.45 तक के लिए स्थगित की गई। इसबीच अध्यक्ष ने अपने कक्ष में दलीय नेताओं की बैठक की। 11.49 बजे फिर जब सभा आरंभ हुई तो अध्यक्ष ने 1.15 बजे फिर बैठक की घोषणा की।

उधर, बाद में विस अध्यक्ष ने श्रम मंत्री के वाहन रोके जाने संबंधी वीडियो फुटेज उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी, संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी और प्रभारी गृह मंत्री बिजेन्द्र यादव के साथ अपने कार्यालय कक्ष में देखकर समीक्षा की। इस दौरान अपर मुख्य सचिव, गृह व डीजीपी को विशेष तौर पर बुलाया गया था। विस अध्यक्ष ने दोनों अधिकारियों से कहा कि जिसकी गलती से मंत्री की गाड़ी रोकी गयी, उसे चन्हिति करें। रिपोर्ट मिलने के बाद सदन उस पर कार्रवाई करेगा। 

जांच के बाद होगी कार्रवाई : चैतन्य

पटना। गृह के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने कहा कि सवाल ही नहीं उठता है कि कोई पदाधिकारी जानबूझ कर किसी मंत्री के साथ गलत व्यवहार करे और उनके वाहन को रोक दे, चाहे वह सिविल के हों या पुलिस के पदाधिकारी। एक कारकेड गुजरा था, उसी समय मंत्री जी की गाड़ी आई। इस पूरे मामले की जांच करने के बाद कार्रवाई की जाएगी।  

कारकेड में नहीं शामिल थी मेरी गाड़ी : डीएम

पटना। जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने मंत्री के वाहन रोकने से संबंधित विधानसभा में उठे मामले में कहा कि मैं विधानसभा कंट्रोल रूप में 10.5 बजे पहुंच गया था तथा वहां फाइल का निष्पादन कर रहा था। मंत्री का वाहन 11 बजे पहुंचा था। उस समय मैं विधानसभा के पोर्टिको में सीएम के स्वागत के लिए खड़ा था। मैंने इस मामले की जानकारी मंत्री महोदय को भी दी है। 

epaper

संबंधित खबरें