ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारकेके पाठक पर अटका विपक्ष, बिहार विधानसभा में भारी हंगामे के बाद वॉकआउट

केके पाठक पर अटका विपक्ष, बिहार विधानसभा में भारी हंगामे के बाद वॉकआउट

शिक्षा विभाग के एसीएस केके पाठक का मुद्दा बिहार विधान परिषद के बाद गुरुवार को विधानसभा में भी गूंजा। विपक्षी सदस्यों ने केके पाठक के खिलाफ एक्शन की मांग को लेकर हंगामा किया।

केके पाठक पर अटका विपक्ष, बिहार विधानसभा में भारी हंगामे के बाद वॉकआउट
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाThu, 22 Feb 2024 12:04 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को लेकर विपक्ष ने गुरुवार को विधानसभा में भारी हंगामा किया। आरजेडी समेत महागठबंधन के विधायकों ने नीतीश सरकार से केके पाठक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। विपक्ष ने एसीएस के कथित गाली वाले वीडियो को सदन में चलाने की मांग की, लेकिन स्पीकर ने अनुमति नहीं दी। शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने स्पष्ट किया कि विधान परिषद में बुधवार को यह मामला उठ चुका है और सरकार की ओर से सभापति को इस मामले पर फैसला लेने के लिए अधिकृत कर दिया गया है।

बिहार विधानसभा के बजट सत्र के दौरान लगातार तीसरे दिन गुरुवार को स्कूलों के समय का मुद्दे को लेकर हंगामा रहा। आरजेडी के विधायकों ने नीतीश सरकार से शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की। शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सदन में बुधवार को जो कहा था, वही आदेश स्कूलों के सयम को लेकर लागू होगा। उन्होंने केके पाठक के कथित गाली वाले वीडियो पर भी सरकार का पक्ष रखा। 

विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही गुरुवार को विपक्षी सदस्य वेल में उतर आए और केके पाठक को लेकर नीतीश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के नेतृत्व में आरजेडी विधायकों ने केके पाठक के कथित वीडियो पर हंगामा कर दिया। विपक्ष ने मांग की कि केके पाठक को पद से हटाया जाए। 

इसके बाद शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि विपक्ष के साथी कुछ गाली वाले वीडियो की बात कर रहे हैं। बुधवार को यह मुद्दा विधान परिषद में भी उठा था। तब सरकार की ओर से स्पष्ट कर दिया गया था कि किसी भी अधिकारी को सामान्य नागरिक को भी गाली देने का अधिकार नहीं है। ऐसे में कोई अफसर शिक्षक या किसी विधायक को कैसे गाली दे सकता है। विधान परिषद में सरकार ने अपना रुख स्पष्ट किया और सभापति को इस मामले पर विचार करने के लिए अधिकृत किया गया है। अगर वीडियो में कुछ गलत पाया जाता है तो सभापति देखकर उस पर उचित निर्णय लेंगे।

पूर्व शिक्षा मंत्री एवं आरजेडी विधायक चंद्रशेखर सदन में अपने मोबाइल में वीडियो चलाने लगे। इस पर विजय चौधरी ने कहा कि बिना स्पीकर की अनुमति के सदन में वीडियो चलाना असंवैधानिक है। आप शिक्षा मंत्री रहे हैं, फिर भी ऐसा कर रहे हैं। शिक्षा मंत्री के संबोधन के बाद भी विपक्षी सदस्य हंगामा करते रहे, बाद में उन्होंने सदन से वॉकआउट कर दिया।

केके पाठक के खिलाफ होगी कार्रवाई? वायरल वीडियो की जांच के लिए कमेटी गठित

स्कूल टाइमिंग में गफलत पर भी विपक्ष का हंगामा
इससे पहले सदन में लगातार तीसरे दिन स्कूलों के समय को लेकर भी विपक्षी विधायकों ने हंगामा किया। इसके बाद शिक्षा मंत्री ने स्पष्ट किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को जो सदन में कहा था, वही आदेश सरकार लागू करेगी। बता दें कि सीएम नीतीश ने एक दिन पहले कहा था कि स्कूलों का समय 9 से 5 के बजाय सुबह 10 से शाम 4 बजे तक रहेगा। हालांकि, शिक्षकों को 15 मिनट पहले स्कूल आना होगा। वहीं, छुट्टी होने के बाद वे 15 मिनट बाद स्कूल से जाएंगे। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें