Number of dengue patients in Patnas waterlogged areas - डेंगू का कहर: पटना के जलजमाव वाले इलाकों में डेंगू का प्रकोप अधिक DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेंगू का कहर: पटना के जलजमाव वाले इलाकों में डेंगू का प्रकोप अधिक

                                                                                                  300

तीन दिवसीय डेंगू जांच कैंप में जितने भी मरीज आए हैं उनमें अधिकतर जलजमाव वाले क्षेत्रों से हैं। तीन दिनों तक चले डेंगू जांच शिविर में 300 से अधिक लोगों ने जांच सैंपल दिए हैं। शनिवार को हुए अंतिम जांच शिविर में जो सैंपल आए हैं उनकी रिपोर्ट 14 अक्टूबर को दी जाएगी। 

वायरोलॉजी लैब के प्रभारी डॉ.सच्चिदानंद कुमार ने बताया कि रविवार को लैब बंद रहेगा। मरीजों को सोमवार को रिपोर्ट मिलेगा। पीएमसीएच के वायरोलॉजी लैब में 114 डेंगू के मरीज पॉजिटिव पाये गए हैं। इसमें कैंप में आए कुल जांच में से 52 मरीजों में डेंगू पॉजिटिव पाया गया है। वहीं प्राइवेट अस्पतालों में 33 डेंगू के मरीज पॉजिटिव मिले हैं। यानी सिर्फ 12 अक्टूबर को पटना से कुल 147 डेंगू के मरीजों की पहचान की गई है। 

पीएमसीएच में 38 मरीज हैं भर्ती
पीएमसीएच के सेंट्रल इमरजेंसी के मुख्य आकस्मिक चिकित्सा पदाधिकारी डॉ.अभिजीत सिंह ने बताया कि शनिवार को सात नए डेंगू के मरीज भर्ती हुए हैं। वहीं डेंगू वार्ड में भर्ती मरीजों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है। सभी मरीजों का इलाज बेहतर तरीके से किया जा रहा है। भर्ती मरीजों में प्लेटलेट्स चढ़ाने वाले मरीजों की संख्या बहुत ही कम है। अधिकतर मरीज औसतन सात से आठ दिनों में ठीक होकर वापस जा रहे हैं। जिन्हें डेंगू है उन्हें जरूरत से ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं हैं।

500 लोगों ने की शिकायत, सिविल सर्जन का वेतन बंद
प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर के निर्देश पर शनिवार से जलजमाव वाले इलाके के लोगों की शिकायत दर्ज करने के लिए संचालित हेल्पलाइन नंबर पर सबसे अधिक लोग डेंगू को लेकर चितिंत हैं। पांच सौ से अधिक लोगों ने डेंगू से बचाव के लिए उपाय नहीं करने की शिकायत की है। कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में आयुक्त ने पटना के सिविल सर्जन के वेतन पर रोक लगा दी है। साथ ही उनसे स्पष्टीकरण पूछा है। 

नगर निगम के छह अंचल और दानापुर नगर परिषद क्षेत्र में दवा बांटने और डीडीटी का छिड़काव के लिए एक हजार कर्मियों की तैनाती की गई है। रविवार से ये कर्मचारी क्षेत्र में काम करेंगे। कार्य की निगरानी करने के लिए सात मजिस्ट्रेट भी तैनात किए गए हैं। सिविल सर्जन को वरीय अधिकारियों ने निर्देश दिया था कि नगर निगम क्षेत्र में 95 टीमें गठित कर चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराएं लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया इसीलिए आयुक्त ने उनका वेतन बंद कर दिया है। हेल्पलाइन नंबर पर अधिकांश लोगों की शिकायत थी कि जलजमाव क्षेत्र में कचरा है। उठाव नहीं हो रहा है। शनिवार की शाम पांच बजे शिकायत पर समीक्षा की गई। आयुक्त ने निर्देश दिया है कि अभियान चलाकर ब्लीचिंग पाउडर व दवा बंटवाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Number of dengue patients in Patnas waterlogged areas