ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारलोकसभा चुनाव से पहले फिर बिहार यात्रा पर निकलेंगे नीतीश, विशेष राज्य दर्जा के लिए आंदोलन करेंगे

लोकसभा चुनाव से पहले फिर बिहार यात्रा पर निकलेंगे नीतीश, विशेष राज्य दर्जा के लिए आंदोलन करेंगे

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरोप लगाए कि केंद्र सकार की ओर से राज्यों को केंद्रीय योजनाओं को लाभ सही से नहीं दिया जा रहा है। राज्यों पर आर्थिक बोझ भी बढ़ता जा रहा है।

लोकसभा चुनाव से पहले फिर बिहार यात्रा पर निकलेंगे नीतीश, विशेष राज्य दर्जा के लिए आंदोलन करेंगे
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाThu, 16 Nov 2023 07:21 PM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केन्द्र सरकार से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की फिर से मांग की है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार बिहार को विशेष दर्जा दे नहीं तो इसको लेकर अभियान चलायेंगे। हर जगह यही मांग दोहरायी जाएगी। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दो, यही कैंपेन चलेगा। एक-एक जगह अभियान चलेगा। अगर केन्द्र बिहार को विशेष दर्जा नहीं देगा तो इसका मतलब है कि वे बिहार का विकास करना नहीं चाहते हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि वे राज्य की योजनाएं और विकास कार्यों की जमीनी पड़ताल करने खुद निकलेंगे। मुख्यमंत्री गुरुवार को बापू सभागार में मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत आयोजित एक दिवसीय उन्मुखीकरण एवं प्रथम किस्त वितरण समारोह के दौरान लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बिहार का गौरवशाली इतिहास रहा है, इसी बिहार से सारी शुरुआत हुई और आज यही पीछे है। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए हम अभियान चलाएंगे। 

नीतीश कुमार ने दावा किया कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाए तो 2 साल में ही बिहार का विकास हो जाएगा। ऐसे हमें लंबा समय तय करना होगा। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलेगा तो यहां लोगों को अधिक मदद की जा सकेगी। यही नहीं इससे देश के विकास में अधिक योगदान हो सकेगा। आज हाल यह है कि ऋण लेकर पूरे राज्य के विकास के लिए काम कर रहे हैं। लेकिन, केन्द्र बिहार को मदद नहीं देता। 

सीएम नीतीश ने कहा कि केन्द्र की योजनाओं का अधिक लाभ राज्यों को नहीं होता। केन्द्र की योजनाओं में 40 फीसदी हमें हिस्सेदारी देनी होती है। केंद्र में कोई योजना बनती है तो प्रचार करते हैं। उनकी हिस्सेदारी 60 प्रतिशत ही होती है और राज्य सरकार को 40 प्रतिशत हिस्सा देना पड़ता है। इसके बाद भी राज्यों को उसका क्रेडिट नहीं मिलता। राज्यों को कोई फायदा भी नहीं मिलता है। सारी योजनाएं केन्द्र के खाते में आती हैं। 

नीतीश ने भरे मंच से फिर आरजेडी पर चलाए तीर, लालू राज से की अपनी तुलना

फिर से बिहार की यात्रा पर निकलेंगे नीतीश कुमार
नीतीश कुमार ने कहा कि वे राज्य की योजनाएं और विकास कार्यों की जमीनी पड़ताल करने खुद निकलेंगे। यह उनकी 15वीं यात्रा होगी। हालांकि वे वर्ष 2021 में यात्रा की जगह समाज सुधार अभियान पर निकले थे। इसे उनकी यात्रा ही मानी गयी थी। इस वर्ष नीतीश कुमार 4 जनवरी से 16 फरवरी तक समाधान यात्रा कर चुके हैं। लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर यह यात्रा अहम मानी जा रही है। हालांकि अभी यात्रा का समय और रूट तय नहीं हुआ है। माना जा रहा है कि नए साल में नीतीश अपनी यात्रा की शुरुआत कर सकते हैं। नीतीश कई बार बिहार में यात्रा निकाल चुके हैं। इसी साल उन्होंने समाधान यात्रा निकालकर विभिन्न जिलों का दौरा किया था।

सीएम की यात्रा: 
न्याय यात्रा :         12 जुलाई 2005 
विकास यात्रा :         नौ जनवरी 2009
धन्यवाद यात्रा :     17 जून 2009
प्रवास यात्रा :         25 दिसंबर 2009
विश्वास यात्रा :         28 अप्रैल 2010
सेवा यात्रा :         नौ नवंबर 2011
अधिकार यात्रा :     19 सितंबर 2012
संकल्प यात्रा :         पांच मार्च 2014
संपर्क यात्रा :         13 नवंबर 2014
निश्चय यात्रा :         नौ नवंबर 2016  
विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा : 12 दिसंबर 2017  
जल-जीवन-हरियाली यात्रा: तीन दिसंबर 2019
समाज सुधार अभियान: 22 दिसंबर 2021 
समाधान यात्रा: चार जनवरी से 16 फरवरी 2023 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें