ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारजीत के मौके पर चौका मारने के मूड में जेडीयू, तुरंत विधानसभा चुनाव करा सकते हैं नीतीश

जीत के मौके पर चौका मारने के मूड में जेडीयू, तुरंत विधानसभा चुनाव करा सकते हैं नीतीश

लोकसभा चुनाव में एनडीए को मिली जीत के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तुरंत बिहार में भी विधानसभा चुनाव कराना चाहते हैं। जेडीयू, बीजेपी समेत अपने सहयोगी दलों के सामने यह मांग रख सकती है।

जीत के मौके पर चौका मारने के मूड में जेडीयू, तुरंत विधानसभा चुनाव करा सकते हैं नीतीश
Jayesh Jetawatअनिर्बन गुहा रॉय, एचटी,पटनाWed, 05 Jun 2024 05:20 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को समय से पहले ही कराया जा सकता है। लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूना्इटेड (जेडीयू) विधानसभा भंग करने के मूड में हैं। जेडीयू बिहार में एनडीए को लोकसभा चुनाव में मिली जीत के मौके पर चौका मारना चाहती। सूत्रों के मुताबिक सीएम नीतीश इस बारे में बीजेपी के शीर्ष नेताओं से चर्चा करने वाले हैं। अपने दिल्ली दौरे के दौरान वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने यह मांग रख सकते हैं। हालांकि, जल्द चुनाव कराने के लिए जेडीयू को बीजेपी के अलावा एनडीए के अन्य घटक दलों जैसे लोजपा रामविलास और हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा (हम) की भी सहमति लेनी होगी। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक करीबी नेता ने बताया कि लोकसभा चुनाव में बिहार के वोटरों के बीच जेडीयू और एनडीए के पक्ष में माहौल बना हुआ है। इसका फायदा उठाने के लिए समय से पहले विधानसभा चुनाव कराए जाने का विचार है। अगले 6 महीने के भीतर ही विधानसभा चुनाव हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी और अन्य सहयोगी दलों को इस पर सहमत होना होगा। जेडीयू इस मुद्दे पर तेजी से प्रयास करेगी। इससे पार्टी को विधानसभा में अपने विधायक बढ़ाने का मौका मिल जाएगा। बता दें कि जेडीयू के बिहार विधानसभा में 45 विधायक हैं।

डिप्टी पीएम की अटकलों के बीच जेडीयू का ऐलान- नीतीश के नेतृत्व में ही लड़ेंगे 2025 का चुनाव

इस बीच संशय़ है कि जेडीयू इस मुद्दे पर अपने सहयोगी दलों को मनाने में कैसे कामयाब होगी। बीजेपी के साथ ही चिराग पासवान की लोजपा रामविलास, जीतनराम मांझी की हम और उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएम इस मुद्दे पर सहमत होंगे या नहीं, यह सवाल लाजमी है। बीजेपी के प्रदेश स्तर के नेता पहले भी जेडीयू की जल्द चुनाव कराने की मांग का विरोध कर चुके हैं।

बता दें कि बिहार में मौजूदा सरकार का कार्यकाल नवंबर 2025 तक का है। यानी कि अगले साल के आखिरी महीनों में बिहार में असेंबली इलेक्शन होंगे। अगर विधानसभा भंग होती है तो ऐसी स्थिति में 6 महीने के भीतर चुनाव कराए जाएंगे। बिहार विधानसभा में जेडीयू के पास अभी 45 विधायक हैं। वहीं, सहयोगी बीजेपी के 78 एमएलए हैं। इसके अलावा जीतनराम मांझी की हम के भी चार विधायक हैं।

खरगे ने बड़ा दिल दिखाया होता तो आज यहां नहीं होता, जेडीयू बोली- एनडीए में ही रहेंगे

लोकसभा चुनाव 2024 के मंगलवार को जारी हुए नतीजों में बिहार में एनडीए का प्रदर्शन अन्य राज्यों के मुकाबले अच्छा रहा। बीजेपी और जेडीयू ने 12-12, लोजपा रामविलास ने 5 और हम ने एक सीट पर जीत दर्ज की। राज्य की 40 में से 30 सीटें एनडीए के खाते में गईं।