ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार28 जनवरी को कुछ बड़ा होगा? नीतीश की महाराणा प्रताप रैली कैंसिल, JDU ने सभी MLA किया पटना तलब

28 जनवरी को कुछ बड़ा होगा? नीतीश की महाराणा प्रताप रैली कैंसिल, JDU ने सभी MLA किया पटना तलब

जनता दल यूनाइटेड ने अपने सभी विधायकों और मंत्रियों को पटना में रहने का निर्देश दिया है। गणतंत्र दिवस के मौके पर सभी जिलों के प्रभारी मंत्री झंडा फहराने के लिए अपने-अपने जिलों में गए थे।

28 जनवरी को कुछ बड़ा होगा? नीतीश की महाराणा प्रताप रैली कैंसिल, JDU ने सभी MLA किया पटना तलब
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाFri, 26 Jan 2024 01:56 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार की राजनीति के लिए अगले 48 घंटे बहुत अहम हैं। कहा जा रहा है की 28 जनवरी 2024 की तारीख राजनीति के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। यह तारीख प्रदेश के राजनीतिक इतिहास में अपना स्थान दर्ज करा सकती है। इधर जदयू ने अपनी एक रैली कैंसिल कर दिया है जो 28 जनवरी को ही होने वाली थी। पार्टी की ओर से महाराणा प्रताप रैली का आयोजन किया जाना था जिसमें खुद नीतीश कुमार को भाग लेना था। बताया जा रहा है कि यह रैली कैंसिल हो गई है।

दरअसल जदयू विधान पार्षद संजय सिंह के प्रयास से 28 जनवरी को महान शासक महाराणा प्रताप के नाम पर रैली का आयोजन किया जा रहा था। शुक्रवार को संजय सिंह नीतीश कुमार से मिलने गए। बताया गया की 28 जनवरी को उनको कुछ व्यस्तता है। सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि उसके बाद इस रैली को कैंसिल कर दिया गया।

इधर मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक खबर यह भी है कि जनता दल यूनाइटेड ने अपने सभी विधायकों और मंत्रियों को पटना में रहने का निर्देश दिया  है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर सभी जिलों के प्रभारी मंत्री झंडा फहराने के लिए अपने-अपने जिलों में गए थे। पार्टी का संदेश मिलने के बाद सभी पटना लौट रहे हैं। उन्हें अगले आदेश तक पटना में रहना है।

इधर भाजपा ने भी पटना में बिहार प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। इसे लेकर सुशील मोदी दिल्ली से पटना के लिए रवाना हो चुके हैं। दिल्ली में सुशील मोदी ने कहा कि जहां तक नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने का सवाल है तो राजनीति में बंद दरवाजे आवश्यकता के अनुसार खुलती भी हैं और फिर बंद भी किए जा सकते हैं। गुरुवार की रात को बिहार भाजपा के महत्वपूर्ण नेताओं की बैठक अमित शाह के आवास पर हुई थी जिसमें बिहार के भविष्य को लेकर रणनीति बनाई गई। बताया जा रहा है कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपना केरल दौरा रद्द कर दिया है और वे दिल्ली में बने रहेंगे।

इधर यह भी खबर आ रही है कि नीतीश कुमार 28 जनवरी को फिर से बीजेपी के साथ मिलकर मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले सकते हैं। भाजपा के साथ पुराना फॉर्मूला के अनुसार सरकार बन सकती है जिसमें बीजेपी से दो उपमुख्यमंत्री शामिल हो सकते हैं। हालांकि इसकी पुष्टि किसी दल द्वारा नहीं की गई है। इधर नीतीश कुमार  राज भवन जाकर राज्यपाल से मिलने वाले हैं।  कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही नीतीश और लालू की दोस्ती टूट जाएगी। शुक्रवार को गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव एक मंच पर देखे गए लेकिन दोनों का बॉडी लैंग्वेज और फेस इंडेक्स साफ बता रहा था कि उनके बीच आपस में भारी नाराजगी और तल्खी है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें