ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारलालू-कांग्रेस को नीतीश का झटका; जेडीयू बोली- सीटिंग सीट लड़ेगी पार्टियां, 23 लोकसभा में कैसे होगा बंटवारा?

लालू-कांग्रेस को नीतीश का झटका; जेडीयू बोली- सीटिंग सीट लड़ेगी पार्टियां, 23 लोकसभा में कैसे होगा बंटवारा?

जदयू के कद्दावर संजय कुमार झा ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी कम से कम 16 सीटों पर अपना उम्मीवार देगी। जिन सीटों पर वर्तमान में जदयू के सांसद हैं वहां कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

लालू-कांग्रेस को नीतीश का झटका; जेडीयू बोली- सीटिंग सीट लड़ेगी पार्टियां, 23 लोकसभा में कैसे होगा बंटवारा?
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाFri, 05 Jan 2024 10:19 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के लिए इंडिया गठबंधन में सीट शेयरिंग पर बहस शुरू हो गई है। सर्वमान्य फार्मूला तय होने के पहले ही घटक दलों ने दावेदारी शुरू कर दी है। बिहार की 40 लोकसभा सीटों के लिए कांग्रेस, जेडीयू, आरजेडी और लेफ्ट में खींचतान जारी है। सीएम नीतीश कुमार के घर पहुंचकर डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने इस पर बैठक भी की है। इस बीच जेडीयू ने साफ कहा है कि इस समय जिन 16 लोकसभा सीटों पर उसके सांसद हैं, उन सीटों पर पार्टी कोई समझौता नहीं करेगी। जनता दल यूनाइटेड के बड़े नेता केसी त्यागी और संजय झा ने इस तरह के बयान दिए हैं। दोनों नेताओं ने 16 सीटों पर दावेदारी का आधार सीटिंग सीट को बता दिया है। लेकिन यह फार्मूला लालू यादव की आरजेडी, कांग्रेस और लेफ्ट के लिए परेशानी का सबब बन सकता है।

नीतीश के चहेते मंत्री संजय कुमार झा ने शुक्रवार को कहा कि लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी कम से कम 16 सीटों पर अपने उम्मीवार उतारेगी। पटना में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि जिन सीटों पर वर्तमान में जेडीयू के सांसद हैं वहां कोई समझौता नहीं किया जाएगा। इसमें किसी को कोई कन्फ्यूजन नहीं होना चाहिए। जो सीटिंग सीट है, वो रहेगी। उन्होंने कहा कि जहां से हमारे नेता सांसद हैं, वहां हमारी स्थिति स्वाभाविक रूप से बेहतर है। हमारी पार्टी के उम्मीदवार ही एनडीए के कैंडिडेट को सही जवाब दे सकते हैं। उन क्षेत्रों में इंडिया गठबंधन के साथी दल सही तरीके से सहयोग दें। हमारी जीत सुनिश्चित होगी और हमारा अलांयस भी मजबूत होगा।

नीतीश को संयोजक बनाने के सवाल पर मंत्री ने कहा कि उन्होंने कभी ऐसा नहीं कहा कि उन्हें गठबंधन में कोई पद दिया जाए। बल्कि वे तो इसके क्रिएटर हैं। सभी विपक्षी दलों को अपने प्रयास से एक मंच पर लाने में उनकी सबसे बड़ी भूमिका है यह सभी लोग जानते हैं। वे गठबंधन के आर्किटेक्ट हैं। अलायंस की पहली बैठक भी यहीं पटना में ही हुई। लेकिन तब भी उन्होंने कोई इच्छा जाहिर नहीं किया।

इससे पहले जदयू के मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने भी दिल्ली में ऐसा ही बयान दिया। वह शुक्रवार को मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नीतीश इंडिया गठबंधन के निर्माता हैं। उनका दर्जा गठबंधन के संयोजक पद से कहीं ऊपर हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव को लेकर सीट बंटवारे पर सहमति बन रही है। इस पर भी सहमति बनी है कि सीटिंग सीट पर वही पार्टी चुनाव लड़ेगी जिसका सांसद इस समय है।

बताते चलें कि वर्तमान में जेडीयू के 16 सांसद हैं। भागलपुर, वाल्मीकि नगर,जहानाबाद, सुपौल, मधेपुरा, गोपालंग, कटिहार, बांका, नालंदा, सीवान, काराकाट, मुंगेर, झंझारपुर, पूर्णिया, सीतामढ़ी और गया सीट जेडीयू के पास है। संजय झा और केसी त्यागी ने साफ किया है कि इन सीटों पर जेडीयू उम्मीदवार ही चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस को 2019 में एकमात्र किशनगंज सीट पर जीत मिली थी, जहां से मोहम्मद जावेद सांसद हैं। लोकसभा में आरजेडी का एक भी सदस्य नहीं है। ऐसे में सीटिंग गेटिंग फार्मूला से बिहार की 40 सीटों में 17 की स्थिति साफ हो गई तो शेष बची 23 सीटों में मुख्य रूप से कांग्रेस, राजद और लेफ्ट के बीच सीट बंटवारा होना है। यह लालू और कांग्रेस दोनों के लिए किसी झटके से कम नहीं है।

अब 2019 के लोकसभा चुनाव में इंडिया के घटक दलों की स्थिति को समझते हैं। जेडीयू ने जिन 16 सीटों पर जीत दर्ज की थी उनमें 8 पर नीतीश की पार्टी ने आरजेडी को हराया था और 5 सीट पर कांग्रेस को मात दी थी। कुल 13 सीटों पर नीतीश ने लालू और कांग्रेस को हराया। किशनगंज की सीट पर कांग्रेस ने जेडीयू को हराकर जीत दर्ज की। कांग्रेस और आरजेडी उनमें से कुछ सीटें चाहती हैं जहां वे हार गए। संजय झा के बयान से साफ हो गया है कि जिन 16 सीट पर उनके सांसद हैं, वो सीटें पार्टी नहीं छोड़ेगी। जदयू की 2 सीटों पर जीतन राम मांझी की पार्टी हम और उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा दूसरे नंबर पर थीं। अब दोनों एनडीए में चले गए हैं तो वहां कोई संकट नहीं है। लेकिन बाकी सीटों पर खींचतान हो सकती है।

कहा जा रहा है कि लालू की पार्टी आरजेडी भी जेडीयू के बराबर सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। जेडीयू अगर 16 सीटों पर चुनाव लड़ती है तो आरजेडी भी 16 पर अपने प्रत्याशी उतारना चाहती है। दोनों पार्टियां मिलकर अगर 32 सीटों पर चुनाव लडे़ंगी तो कांग्रेस एवं तीनों लेफ्ट पार्टियों के खाते में महज 8 सीटें आएंगी। दूसरी ओर, कांग्रेस ने पहले से 10-12 सीटों पर दावा पेश कर दिया है। लेफ्ट पार्टियां भी 10 से ज्यादा सीट मांग रही है। ऐसे में इंडिया गठबंधन में बिहार का सीट बंटवारा काफी चुनौती भरा साबित हो सकता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें