ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार2024 से पहले नीतीश का दलित कार्ड; 26 नवंबर को JDU की भीम संसद, एक लाख लोगों का महाजुटान

2024 से पहले नीतीश का दलित कार्ड; 26 नवंबर को JDU की भीम संसद, एक लाख लोगों का महाजुटान

लोकसभा चुनाव 2024 और बिहार विधानसभा 2025 के मद्देनजर दलित वोट बैंक को साधने के लिए नीतीश की पार्टी जेडीयू ने 26 नवंबर को भीम संसद का आयोजन किया है। जिसमें लाखों लोगों का महाजुटान होगा।

2024 से पहले नीतीश का दलित कार्ड; 26 नवंबर को JDU की भीम संसद, एक लाख लोगों का महाजुटान
Sandeepहिन्दुस्तान,पटनाWed, 22 Nov 2023 05:59 AM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी पटना के वेटनरी मैदान में 26 नवंबर को आयोजित होने वाले भीम संसद में एक लाख लोग शामिल होंगे। इसी लक्ष्य के साथ जोरदार तैयारी चल रही है। इसे सफल बनाने को लेकर मंगलवार को भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी के आवास पर बैठक हुई, जिसकी अध्यक्षता महादलित आयोग के सदस्य रामनरेश राम ने की।

बैठक में अशोक चौधरी ने कहा कि आज साम्प्रदायिक शक्तियां देश को अस्थिर करने में लगी हैं तथा बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का संविधान खतरे में है। हम सबके नेता नीतीश कुमार ने दलितों के उत्थान के लिए बहुत काम किया है। इसलिए आज जरूरत है कि हम सभी मुख्यमंत्री के नेतृत्व को और ताकत दें। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी लोगों से यह आग्रह किया कि 26 नवंबर को ज्यादा-से-ज्यादा संख्या में पटना पहुंच कर मुख्यमंत्री के हाथों को मज़बूती देने के साथ आरक्षण और संविधान विरोधी ता़कतों को मुंहतोड़ जवाब दें। 

बैठक में जदयू के प्रदेश महासचिव रंजीत कुमार झा, प्रभुनाम राम उपस्थित थे। इससे पहले 10 अक्टूबर को सीएम नीतीश कुमार ने भीम संसद रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। और कहा था कि भीम संसद रथ के जरिेए महात्मा गांधी और बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जी के आदर्श, विचार एवं उनके द्वारा किये गये कार्यों से लोगों को अवगत कराया जाएगा। उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरुक भी किया जाएगा। 

जेडीयू की भीम संसद को लोकसभा चुनाव 2024 से पहले दलित वोटबैंक को लामबंद करने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है। जिसका स्लोगन  संविधान बचाओ, आरक्षण बचाओ, देश बचाओ है। भीम संसद को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह समेत विपक्षी दलों के नेता भी संबोधित करेंगे। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें