ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार800 साल बाद जीवंत हुआ नालंदा विश्वविद्यालय, पीएम मोदी ने नए कैंपस का लोकार्पण किया, जानें खासियतें

800 साल बाद जीवंत हुआ नालंदा विश्वविद्यालय, पीएम मोदी ने नए कैंपस का लोकार्पण किया, जानें खासियतें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को नालंदा विश्वविद्यालय के नए कैंपस का लोकार्पण किया। 800 साल बाद बिहार फिर से पूरी दुनिया के ज्ञान के केंद्र के रूप में पहचान बनाएगा।

800 साल बाद जीवंत हुआ नालंदा विश्वविद्यालय, पीएम मोदी ने नए कैंपस का लोकार्पण किया, जानें खासियतें
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,बिहारशरीफWed, 19 Jun 2024 12:03 PM
ऐप पर पढ़ें

पूरी दुनिया में शिक्षा का प्रमुख केंद्र रहा नालंदा विश्वविद्यालय करीब 800 सालों के बाद फिर से जीवंत हो उठा है। 17 देशों के सहयोग से भारत सरकार ने राजगीर के पास नालंदा विश्वविद्यालय का नया कैंपस बनाया, जिसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोकार्पण किया। इस दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर, बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और 17 देशों के राजदूत समेत अन्य कई मेहमान मौजूद रहे। नालंदा यूनिवर्सिटी का नया कैंपस कई मायनों में खास है, इसमें परंपरा को बनाए रखते हुए छात्र-छात्राओं को अत्याधुनिक सुविधाएं दी गई हैं।

पीएम मोदी ने अपने भाषण में नालंदा विश्वविद्यालय के नए कैंपस के निर्माण में सहयोग करने वाले सभी देशों का शुक्रियादा किया। उन्होंने अपने भाषण में कहा कि नालंदा सिर्फ भारत का पुनर्जागरण नहीं है, इससे कई देशों की विरासत जुड़ी हुई है। नालंदा यूनिवर्सिटी के पुनर्निर्माण में साथी देशों की भागीदारी भी रही है। 

नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस में विशाल लाइब्रेरी, खुद का पावर प्लांट भी, देखें PHOTOS

दरअसल, 2007 में हुए पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के दौरान प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय को पुनर्जीवित करने पर चर्चा उठी थी। इसके बाद भारत की तत्कालीन यूपीए सरकार ने 2010 में नालंदा विश्वविद्यालय अधिनियम पारित कराया। 2014 में केंद्र में एनडीए सरकार बनने के बाद तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 19 सितंबर 2014 को नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस की नींव रखी। लगभग 9 साल के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार 19 जून 2024 को इस कैंपस का लोकार्पण किया।

नालंदा विश्वविद्यालय: 600 साल तक दुनिया में ज्ञान का डंका बजाया, खिलजी ने ऐसे किया था बर्बाद

नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस की खासियत
यह परिसर ऐतिहासिक नगरी राजगीर की पंच पहाड़ियों में से एक वैभारगिरि की तलहटी में बनाया गया है। करीब 455 एकड़ में फैले नए कैंपस में 1750 करोड़ रुपये की लागत से नए भवनों और अन्य सुविधाओं का निर्माण किया गया। अभी इस कैंपस का काम चल रहा है। नालंदा यूनिवर्सिटी के कैंपस में 24 इमारतें हैं। 

प्राकृतिक छटाओं और पानी से गिरा है नया कैंपस
प्रकृति की गोद में बसा नालंदा विश्वविद्यालय के नए कैंपस का नजारा बहुत मनमोहक है। इस परिसर के एक चौथाई हिस्से में पानी है। विभिन्न भवनों के आसपास जलाशय बनाए गए हैं। जो बिहार की पारंपरिक आहर पईन जल संयन प्रणाली पर आधारित हैं। यानी कि इस कैंपस में आधुनिकता के साथ परंपरा का भी संगम देखने को मिलता है।