DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बिहार में म्यांमार का 2.86 करोड़ का सोना बरामद, Press लिखे कार के इंजन में छिपाकर रखे थे 35 बिस्किट, डीआरआई ने मुजफ्फरपुर में 3 कैरियरों को दबोचा
बिहार

बिहार में म्यांमार का 2.86 करोड़ का सोना बरामद, Press लिखे कार के इंजन में छिपाकर रखे थे 35 बिस्किट, डीआरआई ने मुजफ्फरपुर में 3 कैरियरों को दबोचा

मुजफ्फरपुर हिन्दुस्तान टीमPublished By: Malay Ojha
Mon, 11 Oct 2021 08:24 PM
बिहार में म्यांमार का 2.86 करोड़ का सोना बरामद, Press लिखे कार के इंजन में छिपाकर रखे थे 35 बिस्किट, डीआरआई ने मुजफ्फरपुर में 3 कैरियरों को दबोचा

मुजफ्फरपुर राजस्व आसूचना निदेशालय (डीआरआई) व कस्टम की टीम ने गायघाट के मैठी टोल प्लाजा के पास कार से 2.86 करोड़ रुपये के सोने के बिस्कुट जब्त की है। कार के इंजन में बने तहखाने में सोने के 35 बिस्कुट छिपाए गए थे। टीम ने तीन कैरियरों को भी दबोचा है। म्यांमार से तस्करी कर भारत लाए सोने के बिस्कुट को गुवाहाटी से बनारस वाया मुजफ्फरपुर ले जा रहे थे। पूरी कार्रवाई रविवार की देर रात की गई।

डीआरआई के एक अधिकारी के मुताबिक, यूपी के गाजीपुर के शक्ति कुमार, बलिया के राणा प्रताप और सगरपुर दिल्ली के नागेंद्र भारती को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के बाद तीनों कैरियर को सोमवार को कोर्ट में पेशकर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। जानकारी हो कि जब्त सोने के बिस्कुट का वजन करीब छह किलो (5.815 ग्राम) है। बताया जाता है कि एक बिस्कुट का वजन करीब 166 ग्राम के आसपास है। बनारस के सिंडिकेट ने गुवाहाटी से तस्करी कर सोने के बिस्कुट मंगवाए थे। इससे दिवाली के अवसर पर आभूषण व सिक्के बनाने की तैयारी थी। डीआरआई की बनारस यूनिट भी छानबीन में जुट गई है।

तीन राज्यों में एक साथ हुई छापेमारी

दिल्ली स्थित मुख्यालय ने गोपनीय सूचना के आलोक में दिल्ली, मुजफ्फरपुर और भोपाल की यूनिट को अलर्ट किया। साथ ही कार का नंबर भी उपलब्ध कराया। इसके बाद तीनों टीम ने छानबीन शुरू की। इस दौरान मुजफ्फरपुर यूनिट ने 5.815 ग्राम के 35 बिस्कुट, दिल्ली यूनिट ने 5.500 ग्राम के तीस बिस्कुट व भोपाल यूनिट ने चार करोड़ रुपये जब्त किए। दिल्ली यूनिट ने भी दो कैरियरों को दबोचा है, जबकि भोपाल यूनिट भी दो संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

असम नंबर की कार से थे कैरियर

जब्त कार असम नंबर की है, जो असम के कामरूप डीटीओ से रजिस्टर्ड है। इसके अलावा कार पर प्रेस भी लिखा है। कार मालिक के नाम का सत्यापन किया जा रहा है। बताया जाता है कि टीम को मैठी टोल प्लाजा पर कैरियरों ने प्रेस के नाम पर गुमराह किया। धौंस भी दिखाई, लेकिन सूचना पक्की और सटीक होने से डीआरआई व कस्टम के अधिकारियों ने कैरियरों को दबोच लिया। पूछताछ में तीनों ने बताया कि कार के इंजन में एक तहखाना बना रखा है। इससे तस्करी का सामान ढोते हैं। पहले भी इसी कार से ले तस्करी कर चुके हैं।

 

संबंधित खबरें