DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस : ब्रजेश से मिले नंबरों की डिटेल्स खंगालेगी CBI, होंगे कई खुलासे

ब्रजेश ठाकुर

जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर से मिले मोबाइल नम्बरों की लिस्ट सीबीआई के हाथ आ गई है। सूत्रों के मुताबिक सीबीआई को वे नम्बर दे दिए गए हैं जो ब्रजेश के पास दो कागजों पर लिखे मिले थे। मुजफ्फरपुर पुलिस ने भी उन नम्बरों को लेकर जांच शुरू कर दी है। हालांकि न तो पुलिस न ही सीबीआई इस बाबत कुछ बोलने को तैयार है। सूत्रों के मुताबिक ब्रजेश के पास से जितने मोबाइल नम्बर मिले हैं सबका कॉल डिटेल्स रिकार्ड (सीडीआर) निकालने की तैयारी है। 

मोबाइल नम्बरों को उन कंपनियों के पास भेजा जा रहा है जो उसकी सर्विस देती हैं। सीडीआर निकालने के दो मकसद हैं। पहला यह पता लगाना कि कागज पर मिले मोबाइल नम्बर किन लोगों के हैं। दूसरा, यह देखा जाएगा कि उनकी बातचीत ब्रजेश से कब से होती थी। क्या मामला दर्ज होने और जेल जाने के बाद भी ब्रजेश उन नम्बरों पर संपर्क में था। यदि बातचीत होती थी तो इसकी वजह क्या थी, ऐसी तमाम बातों को खंगाला जाएगा। 

बढ़ सकती है कइयों की मुश्किलें
जेल में ब्रजेश के पास से मिले मोबाइल नम्बर कई लोगों की मुश्किलें बढ़ता सकता है। न सिर्फ सीबीआई बल्कि बिहार पुलिस भी उन लोगों से पूछताछ कर सकती है जिनके नम्बर ब्रजेश के पास मिले हैं। इस बीच मोबाइल नम्बर मिलने की घटना ने कई लोगों की बेचैनी बढ़ा दी है। मोबाइल नम्बर किन लोगों का है और उनके संबंध ब्रजेश से कैसे हैं। इसको लेकर कयासों का दौर तेज है। 

समाज कल्याण और ब्रजेश के एनजीओ की चिट्ठी लगी सीबीआई के हाथ
बालिका गृह यौन शोषण मामले की जांच कर रही सीबीआई के हाथ अहम दस्तावेज लगे हैं। इन दस्तवेजों ने जांच में जुटे सीबीआई अफसरों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है। हो भी क्यों नहीं, तलाशी में जो कागजात हाथ लगे हैं वह समाज कल्याण विभाग और ब्रजेश की स्वयंसेवी संस्था 'सेवा संकल्प एवं विकास समिति' के बीच चल रहे खेल का खुलासा करने में काफी मददगार साबित होंगे।

सूत्रों के मुताबिक मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह की तलाशी के दौरान सीबीआई को जो अहम दस्तावेज हाथ लगे हैं उसमें समाज कल्याण विभाग और एनजीओ के बीच हुए पत्राचार की कॉपियां भी शामिल हैं। इन पत्रों से सीबीआई को काफी कुछ हाथ लग सकता है। कब क्या हुआ, एनजीओ या विभाग की ओर से किन कारणों से पत्र लिखा गया और दोनों ओर से इसका क्या जवाब दिया गया जैसी अहम जानकारियां इन चिट्ठियों से मिलेगी। सीबीआई ने अपने कब्जे में लिए इन पत्रों का जल्द अध्ययन करेगी। माना जा रहा है कि चिट्ठियों को देखने और समझने के बाद समाज कल्याण विभाग के कई अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

मुजफ्फरपुर कांड: समाज कल्याण और ब्रजेश के NGO की चिट्ठी लगी CBI के हाथ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Muzaffarpur Shelter Home Case CBI Investigate All numbers recorded from Brajesh Thakur