ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमुजफ्फरपुर नेटवर्किंग यौन शोषण केस: DBR के CMD ने भी किया था रेप, कांग्रेस ने नीतीश सरकार पर उठाए सवाल

मुजफ्फरपुर नेटवर्किंग यौन शोषण केस: DBR के CMD ने भी किया था रेप, कांग्रेस ने नीतीश सरकार पर उठाए सवाल

नौकरी के नाम पर झांसा देकर बुलाए गए सभी युवक-युवतियों से 20,500 रुपए वसूले गए। उन्हें वेतन के लिए कंपनी में अन्य लोगों को जोड़ने का टास्क दिया गया।अन्य लोगों को कंपनी में नहीं जोड़ने पर पिटाई होती थी

मुजफ्फरपुर नेटवर्किंग यौन शोषण केस: DBR के CMD ने भी किया था रेप, कांग्रेस ने नीतीश सरकार पर उठाए सवाल
Sudhir Kumarहिंदुस्तान,मुजफ्फरपुरSun, 23 Jun 2024 09:23 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के मुजफ्फरपुर से जुड़े डीबीआर यूनिक नेटवर्किंग कंपनी के सुपरवाइजर तिलक कुमार सिंह ही नहीं सीएमडी मनीष सिन्हा ने भी नौकरी के नाम पर लड़कियों का यौन शोषण किया है। जेल भेजे गए बलिया के अजय प्रताप ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में इसका खुलासा किया है। उसका बयान आईओ ने सीजेएम कोर्ट में पेश किया है। इसमें सारण की पीड़िता से नौकरी देने के बहाने ठगी और यौन शोषण किए जाने की भी पुष्टि की गई है।

अजय ने बयान में कहा है कि जब पीड़िता ने विरोध किया तो उसे चुप कराने के लिए तिलक सिंह से मांग में सिंदूर डलवाया गया। इसके बाद उसे एक कमरा दिया गया, जिसमें तिलक और पीड़िता पति-पत्नी की तरह रहने लगे। बाद में जब पीड़िता ने वेतन का दबाव बनाया तो उसे कंपनी से निकाल दिया गया था।

अजय ने स्वीकारोक्ति बयान में कहा है कि नौकरी के नाम पर झांसा देकर बुलाए गए सभी युवक-युवतियों से 20,500 रुपए वसूले गए। फिर उन्हें वेतन के लिए कंपनी में अन्य लोगों को जोड़ने का टास्क दिया गया। जो अन्य लोगों को कंपनी में नहीं जोड़ते थे, उसके साथ मारपीट और शोषण किया जाता था।

बखरी में छापे के बाद हाजीपुर किया शिफ्ट

अहियापुर के बखरी में कंपनी के सेंटर में पुलिस की छापेमारी के बाद मई 2023 में सारण की पीड़िता को हाजीपुर कार्यालय में शिफ्ट किया गया था, जहां उसके साथ घटना हुई। अजय ने कहा है कि सारण की पीड़िता का गोपालगंज की लड़की से विवाद हुआ था। इसी बात को लेकर तिलक और उसने एक लड़का व लड़की से मारपीट की थी। हाजीपुर कार्यालय में हुई इस मारपीट का वीडियो वायरल हो गया था। इसी वीडियो के आधार पर चिह्नित कर अजय प्रताप की गिरफ्तारी हुई।

तिलक व अजय की जमानत अर्जी हुई खारिज

अहियापुर थाने के दारोगा जीतेंद्र महतो ने बीते 19 जून को तिलक कुमार सिंह और 20 जून को अजय प्रताप को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेजा था। जेल भेजे जाने के दिन ही दोनों की ओर से जमानत अर्जी कोर्ट में डाली गई थी, जिस पर शनिवार को सुनवाई हुई। नौकरी के नाम पर बड़े पैमाने पर ठगी और शोषण का मामला पाते हुए प्रभारी सीजेएम पंकज कुमार लाल ने आरोपित तिलक सिंह और अजय प्रताप की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। अब दोनों के वकील जमानत के लिए जिला जज के न्यायालय में अपील करेंगे।

पीड़िता बोली, आरोपितों को सजा तक करूंगी संघर्ष

ठगी व यौन शोषण की शिकार सारण की युवती शनिवार को मुजफ्फरपुर पहुंची। वह कोर्ट में दाखिल किए गए वाद की सुनवाई में शामिल होने के लिए आई थी। इस क्रम में पीड़िता ने कहा कि आरोपितों को सजा दिलाने तक संघर्ष करूंगी। उसने कहा कि उसकी तरह दर्जनों लड़कियां हैवानियत की शिकार हुईं हैं, पर इज्जत के कारण अधिकांश मुंह नहीं खोल रहीं। हालांकि, नौकरी के नाम पर ठगे पर दर्जनों युवक-युवतियां खुलकर बोलने को तैयार हैं। बता दें कि मिसलेनियस वाद पर अहियापुर पुलिस ने रिपोर्ट दे दी है, जिसमें एफआईआर और दो आरोपितों की गिरफ्तारी की बात कही गई है।

पीड़िता के घर सारण पहुंच आईओ ने की जांच

अहियापुर थाने में दर्ज मामले की जांच कर रहे आईओ जीतेंद्र महतो शनिवार को दो महिला पुलिसकर्मियों के साथ सारण स्थित पीड़िता के घर पहुंचे। उन्होंने पीड़िता से पूछा कि मामले में अन्य गवाहों या पीड़िता का बयान दर्ज कराना है। यदि कोई संपर्क में है तो, उसका बयान दिलवा दें। इस पर पीड़िता ने गोपालगंज व सीवान की दो लड़कियों के बारे में बताया, लेकिन कहा कि मीनापुर की गवाह का आंशिक बयान होने के कारण अन्य गवाह सशंकित हैं। पीड़िता ने कहा कि उसका मोबाइल पुलिस के पास जब्त है। उसी फोन में अन्य गवाहों के नंबर हैं। जब तक पुलिस फोन नहीं लौटाती, तब तक अन्य गवाहों से वह कैसे संपर्क कर पाएगी।

महिला कांग्रेस सड़क से संसद तक जाएगी

नेटवर्किंग कंपनी में लड़कियों के साथ हुए शोषण के विरोध में कांग्रेस की महिला कार्यकर्ता सड़क से संसद तक जाएंगी। शनिवार को जिले में पहुंची बिहार प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष शरवत जहां फातिमा ने यह हुंकार भरी। उन्होंने एसपी को इस पूरे मामले की जांच को लेकर ज्ञापन दिया। प्रदेश महिला अध्यक्ष ने कहा कि बेटियों को न्याय नहीं मिला तो आंदोलन जारी रहेगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस में महिला अध्यक्ष ने कहा कि यह सेक्स स्कैंडल नया नहीं है। पहले भी यहां बालिकागृह कांड जैसे मामले सामने आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि सभी महिला संगठनों को सुरक्षा को लेकर आगे आना चाहिए। प्रदेश महिला अध्यक्ष ने कहा कि एक ओर सरकार महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की बात करती हैं, मगर सबसे जरूरी मुद्दा महिलाओं की सुरक्षा की उन्हें नहीं मिल पा रहा है। बेटियां घर से निकले तो शोषण का शिकार हो रही हैं। इसके लिए जवाबदेह सभी लोगों से जवाब मांगा जाना चाहिए।