Tuesday, January 25, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारमुजफ्फरपुरः मुखिया प्रत्याशी के देवर की हत्या, बूथ के पास शव मिलने के बाद फूटा गुस्सा

मुजफ्फरपुरः मुखिया प्रत्याशी के देवर की हत्या, बूथ के पास शव मिलने के बाद फूटा गुस्सा

मुजफ्फरपुर मुशहरी वसं हिसं.Yogesh Yadav
Wed, 20 Oct 2021 09:00 PM
मुजफ्फरपुरः मुखिया प्रत्याशी के देवर की हत्या, बूथ के पास शव मिलने के बाद फूटा गुस्सा

इस खबर को सुनें

मुशहरी प्रखंड की रजवाड़ा पंचायत के निवर्तमान मुखिया सह प्रत्याशी जयंती देवी के देवर की बुधवार शाम हत्या कर दी गई। प्रत्याशी के पति शिवनाथ प्रसाद यादव के चचेरे भाई रमेश प्रसाद यादव की लाश पीर मोहम्मदपुर गांव में बूथ के रास्ते में मिली। गमछा से गला घोटकर हत्या की गई है।

पीर मोहम्मदपुर गांव स्थित बूथ संख्या 237-238 से पांच सौ मीटर की दूरी पर सड़क किनारे खेत में शाम करीब चार बजे लाश मिली। इसकी सूचना मिलते ही राजवाड़ा पंचायत में सनसनी फैल गयी। मौके पर भारी संख्या में लोग जमा हो गए। इसके बाद अहियापुर पुलिस और एएसपी अभियान विजय शंकर पहुंचे। पंचानामा कर शव को कब्जे में लेने का प्रयास किया। लेकिन शव को रात आठ बजे तक नहीं उठने दिया गया था। शिवनाथ प्रसाद यादव अपने विरोधियों पर हत्या का आरोप लगा रहे हैं। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है। 

बताया गया कि रमेश प्रसाद यादव क्षेत्र में भ्रमणशील थे। साढ़े दस बजे वे अकेले पीर मोहम्मदपुर गांव पहुंचे थे। लोगों से हालचाल लेकर फिर दूसरे इलाके में निकल गए। इसकी दोपहर साढ़े तीन बजे वे पुन: पीर मोहम्मदपुर गांव के बूथ संख्या 237-238 के समीप देखे गए। इसके बाद से वह ट्रेस लेस हो गए थे। रमेश प्रसाद यादव रजवाड़ा भगवान गांव के रहने वाले थे।

खेती किसानी करते थे। भाई शिवनाथ प्रसाद यादव की पत्नी निवर्तमान मुखिया हैं। पुन: चुनाव मैदान में मुखिया प्रत्याशी हैं। एसएसपी ने बताया कि एएसपी अभियान के नेतृत्व में मामले की छानबीन की जा रही है। बहुत जल्द हत्या करने वाले तक पुलिस पहुंच जाएगी। वैज्ञानिक तरीके से भी साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा।  

रमेश यादव नहीं रखते थे गमछा

इधर, हत्या की सूचना पर पीर मोहम्मदपुर गांव पहुंचे शिवनाथ प्रसाद यादव ने बताया कि उनका भाई गमछा नहीं रखता था। उनके गर्दन में गमछा लपेटा हुआ था। उसमें बांस का डंडा भी फंसाया हुआ था। उन्होंने आशंका जतायी कि उनके विरोधी भाड़े के हत्यारों को बुलाकर उनके भाई को अगवा किया और फिर उसका गला घोटकर सड़क किनारे फेंक दिया। उन्होंने बताया कि उनके गांव के व्यक्ति वोट गिराकर घर लौट रहे थे। इस दौरान उसने रमेश को सड़क किनारे गिरा देखा। उसने ही उन्हें मोबाइल पर कॉलकर इसकी जानकारी दी। फिर उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। उनका मोबाइल भी ट्रेस लेस है। अबतक नहीं मिल सका है। 

पंचायत के दो गुटों में भारी तनाव

हत्या के बाद पंचायत के दो पक्षों में भारी तनाव है। गांव में अनहोनी की आशंका जतायी जा रही है। आम लोग घरों से नहीं निकल रहे हैं। शिवनाथ यादव ने बताया कि विरोधी चुनाव से पहले से धमकी दे रहे थे। निवर्तमान मुखिया के समर्थकों ने अविलंब विरोधी को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं। पुलिस प्रशासन लोगों को हत्यारोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन दे रहे थे। 

epaper

संबंधित खबरें