DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बालिका गृह कांड : नगर पुलिस ने नहीं किया था एक बच्ची की मौत का केस

cbi

मुजफ्फरपुर के बहुचर्चित बालिका गृह कांड में एक नया खुलासा हुआ है। सीबीआई जांच में नगर थाना की पुलिस की कलई खुल गई है। थाना के तत्कालीन पुलिस पदाधिकारी ने न केवल बच्चियों के गायब होने के मामले में लापरवाही बरती बल्कि एक बच्ची की मौत का यूडी केस तक दर्ज नहीं किया था। 

एसकेएमसीएच में बच्ची की मौत के बाद अहियापुर पुलिस ने बालिका गृह के कर्मचारी का फर्द बयान दर्ज किया था। इस बयान के आधार पर नगर थाने में यूडी केस दर्ज होना था, लेकिन अहियापुर थाने से भेजा गया बयान नगर थाने से गायब हो गया। अब इसपर तत्कालीन दो दारोगा (2009 बैच) से स्पष्टीकरण मांगा गया है।  

पोस्टमार्ट रिपोर्ट खंगालने पर खुलासा 
सीबीआई ने एसकेएमसीएच के पोस्टमार्टम हाउस के रिकार्ड में चार बच्चियों का पोस्टमार्टम होने का ब्योरा लिया जबकि नगर थाना में तीन बच्चियों की मौत का ही यूडी केस का रिकार्ड मिला। इसके बाद सीबीआई ने 2017 में इलाज के दौरान बच्ची की हुई मौत को लेकर अहियापुर थाना में दर्ज फर्द बयान का रिकार्ड खंगाला। जानकारी मिली कि अहियापुर थाना ने फर्द बयान दर्ज किया था। इसकी कॉपी नगर थाने के एक होमगार्ड जवान ने रिसीव की थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:muzaffarpur home shelter case City police did not have a child death case