DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारपटना: नगर निगम ने शुरू की छठ की तैयारी, छह नवंबर तक तैयार हो जाएंगे 93 घाट, वर्दी में तैनात होंगे कर्मी

पटना: नगर निगम ने शुरू की छठ की तैयारी, छह नवंबर तक तैयार हो जाएंगे 93 घाट, वर्दी में तैनात होंगे कर्मी

वरीय संवाददाता,पटनाSneha Baluni
Wed, 20 Oct 2021 01:40 PM
पटना: नगर निगम ने शुरू की छठ की तैयारी, छह नवंबर तक तैयार हो जाएंगे 93 घाट, वर्दी में तैनात होंगे कर्मी

छठ महापर्व की तैयारी नगर निगम ने शुरू कर दी है। निगम क्षेत्र में सभी 93 घाटों को छह नवंबर तक तैयार करने का लक्ष्य दिया गया है। वहीं सात नवंबर से छठ व्रतियों के लिए साफ-सुथरा छठ घाट उपलब्ध करा दिया जाएगा। घाटों की सफाई तीन चरण में पूरी करनी है। साथ ही प्रत्येक घाट के एक किलोमीटर के क्षेत्र को नो टॉलरेंस एरिया घोषित किया जाएगा।

पहले चरण की सफाई चार नवंबर तक पूरी करने के बाद पांच नवंबर से हर घाट के एक किलोमीटर का दायरा नो टॉलरेंस एरिया घोषित कर दिया जाएगा। नो टॉलरेंस एरिया का मतलब यह है कि चार नवंबर तक नगर निगम पहले चरण में सभी घाटों की सफाई करने के बाद प्रत्येक घाट और उसके एक किलोमीटर के दायरे को साफ और स्वच्छ रखेगा। 

नो टॉलरेंस एरिया में आस-पास के लोग जहां-तहां कूड़ा-कचरा नहीं फेकेंगे। गंगा नदी समेत एक किलोमीटर के दायरे में गंदगी फैलाने वाले लोगों को चिह्नित किया जाएगा। ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी और जुर्माना भी लगाया जाएगा। इसके लिए संबंधित अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी और कार्यपालक अभियंता को जिम्मेवारी दी गई है। पहले चरण की सफाई पूरी करने के बाद दोनों पदाधिकारी इसे नो टॉलरेंस एरिया घोषित करेंगे। 

तीन चरणों में होगी घाटों की सफाई

छठ पर्व में अब बहुत ही कम समय बचा है। महज 18 दिनों में पांच अंचलों के 93 घाटों को तैयार करना है। वहीं इसमें से सुरक्षित और खतरनाक घाटों को चिन्हित भी करना है। ऐसे में नगर निगम ने अपने स्तर से छठ महापर्व को लेकर घाटों को तैयार करने का कार्य शुरू कर दिया है। इसके लिए निगम ने आदेश भी जारी कर दिया है। सभी घाटों, तालाबों और पार्कों को तीन चरणों में तैयार करने की योजना बनायी गई है। पहले चरण में सभी घाट एवं पहुंच पथ की साफ-सफाई युद्ध स्तर पर की जाएगी। घाटों के प्रथम चरण की सफाई का कार्य चार नवंबर तक पूरा किया जाएगा। 

दीपावली से पहले घाट होंगे तैयार

दीपावली के बाद लोग घर का कूड़ा और मूर्ति को गंगा में प्रवाहित करते हैं। ऐसे में सफाई पर्यवेक्षक और सफाई निरीक्षक ऐसे लोगों को गंगा में पूजन सामग्री को प्रवाहित करने से रोकेंगे। इसके लिए घाटों पर या दूसरे स्थल पर पूजन सामग्री को संग्रहित करने की व्यवस्था की जाएगी। दूसरे चरण की सफाई का कार्य छह नवंबर तक पूरा कर लिया जाएगा और सात नवंबर से घाट छठ व्रतियों के लिए उपलब्ध हो जाएंगे।

1360 सफाई मजदूर और 133 सफाई पर्यवेक्षक लगेंगे

गंगा किनारे सभी 93 घाटों समेत पार्कों और तालाबों की सफाई के लिए नगर निगम ने 1360 सफाई मजदूर और 133 सफाई पर्यवेक्षकों को लगाया है। प्रत्येक घाट पर 10 सफाई मजदूर और एक पर्यवेक्षक की तैनाती अलग से की गई है। जिन पदाधिकारियों को घाटों की जिम्मेदारी दी गई है वो लगातार घाटों की निगरानी करेंगे। अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि सफाई के लिए जरूरी संसाधन के अतिरिक्त झाड़ू, बेल्चा, ब्लीचिंग पाउडर, चूना आदि की आपूर्ति हो। 

घाटों पर तैनात कर्मी होंगे वर्दी में

घाटों पर प्रतिनियुक्त कर्मी वर्दी में रहेंगे और एप्रन भी पहनेंगे। साथ ही घाटों पर सफाई विंग, तकनीकी विंग, छठ पूजा समिति एवं विभिन्न संस्थानों के बीच समन्वय रखेंगे। घाटों पर पर्याप्त संख्या में डस्टबिन, पहुंच पथ पर रोशनी की व्यवस्था करनी है। मुख्य सड़कों और संपर्क पथों की सफाई के साथ जेटिंग मशीन से धुलाई की जाएगी। 

आठ नवंबर तक पार्किंग की करनी है व्यवस्था

सभी प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता को यह निर्देश दिया गया है कि आठ नवंबर तक छठ महावर्प के लिए पार्किंग की व्यवस्था कर लें। रेलिंग, चाली निर्माण, पोखर और तालाब का निर्माण किया जाएगा। घाटों का समतलीकरण, घाट निर्माण, संपर्क पथ का निर्माण भी तय समय में पूरा करना है। सभी घाटों पर बैरिकेडिंग में कम से कम तीन रनिंग बल्ल का उपयोग करना है। छठ पूजा के लिए नगर निगम ने विशेष नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। प्रभारी सहायक अभियंता को नियंत्रण कक्ष का प्रभारी बनाया गया है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें