ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमुकेश सहनी ने तीसरी बार PM बनने की नरेंद्र मोदी को नहीं दी बधाई, VIP चीफ ने वजह भी बताई

मुकेश सहनी ने तीसरी बार PM बनने की नरेंद्र मोदी को नहीं दी बधाई, VIP चीफ ने वजह भी बताई

वीआईपी चीफ मुकेश सहनी ने नरेंद्र मोदी की तीसरी बार पीएम बनने की बधाई नहीं दी है। और इसकी वजह बताते हुए कहा कि निषाद समाज को आरक्षण नहीं तो पीएम मोदी को बधाई नहीं।

मुकेश सहनी ने तीसरी बार PM बनने की नरेंद्र मोदी को नहीं दी बधाई, VIP चीफ ने वजह भी बताई
Sandeepहिन्दुस्तान,पटनाTue, 11 Jun 2024 11:25 AM
ऐप पर पढ़ें

विकासशील इंसान पार्टी के संस्थापक और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी ने नरेंद्र मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद बधाई और शुभकामना नहीं दी । उन्होंने कहा कि ऐसे प्रधानमंत्री को कैसे बधाई दूं, जो हमारे संविधान को समाप्त करने की सोच रखता है। उन्होंने कहा कि निषाद समाज को आरक्षण नहीं तो प्रधानमंत्री जी को भी बधाई नहीं। 

उन्होंने कहा कि कैसे ऐसे प्रधानमंत्री को बधाई दूं, जो भाईचारा की समाप्त करने की सोच रखता हो। में कैसे ऐसे प्रधानमंत्री को बधाई दूं जो जनता की चुनी सरकार को रातोंरात गिरा दे और अपनी सरकार बना ले। सहनी ने आगे कहा कि मैं कैसे ऐसे प्रधानमंत्री को बधाई दूं, जो एक मछुआरा का बेटा संघर्ष कर चार विधायक बनाये और जब उनकी बात नहीं माने तो उन विधायकों को खरीद ले। उन्होंने कहा कि गरीब, पिछड़ा के हक अधिकार को दूसरे में बांटने वाले और बाबा साहेब अंबेडकर के सपने को कुचलने वाले तथा आरक्षण खत्म करने के लिए सभी सरकारी संस्थाओं को निजीकरण करने वाले प्रधानमंत्री को कैसे बधाई दूं।

सहनी ने कहा कि ऐसे प्रधानमंत्री को कैसे बधाई दूं जो निषाद आरक्षण का वादा कर ले और फिर मुकर जाए। ऐसे प्रधानमंत्री को कैसे बधाई दूं जो एक मछुआरा के बेटे को रात दिन खत्म करने की सोच रखता हो। धर्म के नाम पर राजनीति करने वाले,  युवाओं को बेरोजगार रखने वाले प्रधानमंत्री को कैसे बधाई दूं। कैसे ऐसे प्रधानमंत्री को बधाई दूं जो अग्निवीर योजना के जरिये युवाओं को 22 साल में रिटायर कराने की योजना लाये हों।

आपको बता दें बिहार में महागठबंधन के सहयोगी के तौर पर मुकेश सहनी की वीआईपी ने तीन सीटों गोपालगंज, झंझारपुर और मोतिहारी पर चुनाव लड़ा था। लेकिन पार्टी का कोई भी प्रत्याशी जीत हासिल नहीं कर सका। और सहनी ने तेजस्वी के साथ 250 से ज्यादा रैलियां की थीं।