DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बिहार: मोतिहारी में सिकरहना नदी में नाव पलटी, एक की मौत, दो लापता
बिहार

बिहार: मोतिहारी में सिकरहना नदी में नाव पलटी, एक की मौत, दो लापता

हिन्दुस्तान ब्यूरो,मोतिहारीPublished By: Sneha Baluni
Sun, 26 Sep 2021 03:50 PM
बिहार: मोतिहारी में सिकरहना नदी में नाव पलटी, एक की मौत, दो लापता

पूर्वी चम्पारण के शिकारगंज थाना क्षेत्र के गोढ़िया घाट पर रविवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे ग्रामीणों से भरी नाव सिकरहना (बूढ़ी गंडक) नदी में पलट गई। नाव पर सवार एक बच्ची की मौत हो गयी, जबकि दो बच्चे लापता हैं। 16 लोगों को ग्रामीणों ने बांस व साड़ी के सहारे बारी-बारी से निकाल लिया। इनमें चार महिलाएं घायल हो गईं। एक महिला को डॉक्टरों ने मोतिहारी रेफर कर दिया है। ग्रामीणों की सूचना पर प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे। लापता लोगों की तलाश के लिए करीब साढ़े बारह बजे एनडीआएफ की टीम को बुलाया गया।

ग्रामीणों के मुताबिक नाव पर डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोग सवार थे। हालांकि घटनास्थल पर पहुंचे डीडीसी सह प्रभारी डीएम कमलेश कुमार ने नाव पर 14 लोगों के ही सवार होने की बात कही। उन्होंने बताया कि एक बच्ची की मौत हो गई है। मृतका की पहचान गोढ़िया गांव निवासी मोतीलाल भगत की पुत्री चांदनी कुमारी (11) के रूप में की गई है। वहीं लापता बेला गांव के रंभू राय की पुत्री अंशिका कुमारी (10) व गोढ़िया निवासी होरिल सहनी की पुत्री अंशु कुमारी (9) की तलाश एनडीआरएफ की टीम कर रही है।  

नदी पार घास व खर काटने जा रहे थे नाव सवार

ग्रामीणों के मुताबिक निजी नाव पर सवार लोग नदी के दूसरे किनारे टिकुलिया गांव के सरेह में घास व खर काटने जा रहे थे। नाव प्रगास सहनी चला रहा था। किनारे से चलकर नदी की बीच धारा में पहुंचते ही नाव में पानी भर गया और नाव डूब गयी। नाव में पहले से सुराख था, उसमें पहले से पानी जमा था। इसकी अनदेखी कर सभी लोग नाव पर सवार हो गए। नाव को डूबते हुए देख किनारे शौच करने आए जयचंद्र राम, रमोद कुमार व मेघनाथ कुमार शोर मचाते हुए नदी की ओर दौड़े। उनकी आवाज सुनकर गांव के लोग भी नदी किनारे पहुंचे। हालांकि तबतक ये तीनों बांस की लग्गी व साड़ी के सहारे 16 लोगों को एक-एक कर बाहर निकाल रहे थे।

बाहर निकाली गईं चार महिलाओं की हालत नाजुक को नाजुक देख ग्रामीणों ने तत्काल पकड़ीदयाल रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया। वहां से हीरा सहनी की पत्नी संझरिया देवी को डॉक्टर ने मोतिहारी रेफर कर दिया। उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। वही होरिल सहनी की पत्नी बलिया देवी, रामाशीष सहनी की पत्नी झिंगरी देवी व मोतीलाल भगत की पत्नी मानती देवी को इलाज के बाद घर भेज दिया गया।

हादसे में ये हुए चोटिल

गोढ़िया निवासी प्रभु पंडित की पत्नी मुन्ना देवी, रामाशीष सहनी की पुत्री खुशी कुमारी(8), पूरन सहनी के पुत्र गुदरी सहनी (60), गुदरी सहनी की पत्नी आनंदी देवी(55), केदार सहनी की पत्नी शारदा देवी (50), उसकी पुत्री लखपति कुमारी (12), राघो सहनी की पुत्री पार्वती कुमारी (15), रामदत्त राय की पुत्री छोटी कुमारी (7), जवाहर राय (45), महेंद्र सहनी की पुत्री उषा कुमारी (14), विगन सहनी की पुत्री सम्भा कुमारी (15) व नाविक प्रगास सहनी (60) को चोटें आयी है। घटना के बाद से सभी बदहवास हंै। इनलोगों ने बताया कि नाव में डेढ़ दर्जन से अधिक लोग सवार थे।

 

संबंधित खबरें