ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार400 रुपये के लिए मां ने बेटे को बेरहमी से पीटा, गुस्सा इतना कि जिंदा जलाने के लिए आग लगा दी

400 रुपये के लिए मां ने बेटे को बेरहमी से पीटा, गुस्सा इतना कि जिंदा जलाने के लिए आग लगा दी

एक मां ने गुस्से में अपने 13 साल के बेटे के साथ इतना खौफनाक बर्ताव किया कि देखने वाले का दिल भी पसीज गया। महज 400 रुपये के लिए मां ने बेटे की पिटाई कर दी और फिर उसे जिंदा जलाने के लिए आग भी लगा दी।

400 रुपये के लिए मां ने बेटे को बेरहमी से पीटा, गुस्सा इतना कि जिंदा जलाने के लिए आग लगा दी
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पश्चिम चंपारणFri, 14 Jun 2024 08:20 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के पश्चिम चंपारण जिले से मां और बेटे के रिश्ते को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। महज 400 रुपये के लिए एक मां ने अपने 13 साल के बेटे को खंभे से बांधकर बेरहमी से पीट दिया। गु्स्सा इतने में भी नहीं थमा तो उसने पुआल रखकर उसमें आग लगा दी और बेटे को जिंदा जलाने की भी कोशिश की। यह मामला मझौलिया थाना क्षेत्र की अहवर कुड़िया पंचायत के वार्ड-1 के जगीरहा का है। महज चार सौ रुपये चोरी करने के आरोप में मां सबिना खातून ने 13 साल के साथ बेरहमी की। बेटा चिल्लाता रहा लेकिन मां पर कोई असर नहीं पड़ा। उसकी चीख सुनकर पहुंचे ग्रामीणों ने आग बुझाई। तब तक उसके हाथ-पैर बुरी तरह झुलस चुके थे। 

इसके बाद भी मां अपने बेटे को इलाज के लिए अस्पताल नहीं ले जा रही थी। पुत्र का दर्द देख ग्रामीणों ने मां को खरी-खोटी सुनाई। इसके बाद वह बेटे को लेकर मझौलिया पीएचसी पहुंची। यहां डॉक्टरों ने उसे जीएमसीएच रेफर कर दिया। थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार मिश्र ने बताया कि वह बाहर हैं। इस तरह की घटना की सूचना नहीं मिली है। आवेदन मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने जीएमसीएच में पीड़ित आशिक का बयान लिया है। जगीरहा में उसकी बहन आशिया और तबस्सुम से भी जानकारी ली गई है। 

सनकी पति की करतूत, कैंची घोंपकर पत्नी को मारा, फिर खुद भी कर ली आत्महत्या

जानकारी के अनुसार, सबिना खातून के 400 रुपये चोरी हो गए थे। उसने बेटे पर रुपये चोरी का आरोप लगाकर उसे बुरी तरह पीटा। लात-घूंसे और थप्पड़ के साथ ठंडे से भी उसकी पिटाई की गई। पिटाई से किशोर छटपटा रहा था लेकिन भाग नहीं पाया। फिर मां ने उसे खंभे से बांध दिया। उसके नीचे पुआल रखकर आग लगा दी। वह बचाने की गुहार लगाता रहा। कई बार हाथ से आग बुझाने की कोशिश की लेकिन उसकी छटपटाहट और दर्द देखकर भी मां का कलेजा नहीं पसीजा।