ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारघर के बाहर बैठी थीं मां-बेटी; बदमाशों ने बरसा दीं गोलियां, पुत्री की मौत, पहले भी हुए परिवार पर हमले

घर के बाहर बैठी थीं मां-बेटी; बदमाशों ने बरसा दीं गोलियां, पुत्री की मौत, पहले भी हुए परिवार पर हमले

लखीसराय जिले में घर के बाहर बैठी मां-बेटी पर बदमाशों ने गोलियां बरसा दीं। जिसमें बेटी की इलाज के दौरान मौत हो गई। जबकि मां की हालात स्थिर बनी हुई है। दुश्मनी के चलते घटना के अंजाम दिया गया।

घर के बाहर बैठी थीं मां-बेटी; बदमाशों ने बरसा दीं गोलियां, पुत्री की मौत, पहले भी हुए परिवार पर हमले
Sandeepसंवाददाता,लखीसरायSat, 18 May 2024 12:48 PM
ऐप पर पढ़ें

लखीसराय के टाउन थाना क्षेत्र के धर्मरायचक वार्ड 6 में शनिवार की सुबह अपराधियों ने द्वारा दो महिलाओं को गोली मार दी गई। दोनों मां-बेटी है। और सुबह के वक्त अपने घर के बाहर बैठी थीं। गोली से लगने से बेटी बसंती देवी की मौत हो गई जबकि मां लाछो देवी गंभीर रूप से घायल हो गईं। जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। स्थानीय लोगों ने बताया क  रामजी यादव के घर के दरवाजे पर अपराधियों ने उनकी पत्नी लाछो देवी और बेटी बसंती देवी को गोली मार दिया। दोनों को इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टर ने बसंती को मृत घोषित कर दिया। 

घटना की जानकारी के बाद एसपी पंकज कुमार और एसडीपीओ शिवम कुमार पहले सदर अस्पताल फिर घटनास्थल पर पहुंचे। सदर अस्पताल में मृतक एवं घायल महिला को देखने के बाद पुलिस पदाधिकारी घटनास्थल पहुंचे। और घर पर मृतक के परिजनों से पूछताछ की। एसपी के समक्ष ही स्थानीय लोग पुलिस का इकबाल खत्म होने के कारण अपराधियों द्वारा घटना को अंजाम देने की बात कह रहे थे।
 
पूछताछ के दौरान पता चला कि 2022 से ही अवध यादव एवं अशोक साव के परिवार के बीच विवाद चल रहा था जिसमें कई बार पीड़ित परिवार के ऊपर हमला हुआ। 15 दिसंबर 2023 को भी पीड़ित परिवार के एक किशोरी के घर जाने के दौरान गोली मार दी थी। वहीं 14 मई को भी पीड़ित परिवार के ऊपर गोली मार कर एक तीन माह की दुधमुंही बच्ची और उसकी मां निभा देवी को घायल कर दिया था।

यह भी पढ़िए- पटना छात्र मर्डर केस में खुलासा; मारकर गटर में फेंका, CCTV फुटेज डिलीट किया, स्कूल संचालक और मां गिरफ्तार

16 मई को पीड़ित पक्ष के मंटू यादव उर्फ फाइटर के 14 वर्षीय पुत्र राजवीर कुमार को  लोहे के पंजे से हमला कर सिर एवं पूरे शरीर में जहां-तहां गंभीर जख्म बना दिया था। इससे पहले 2022 में भी पीड़ित पक्ष के तीन मवेशी को मार दिया था जिसमें अशोक साव को जेल भी जाना पड़ा था।
 
पुलिस द्वारा ठोस कार्रवाई नहीं होने से बढ़े मनोबल के साथ अपराधियों ने शनिवार की अहले सुबह फिर से पीड़ित परिवार पर गोलीबारी कर हमला कर दिया, जिसमें एक महिला की मौत हो गई एवं दूसरी महिला जिंदगी का जंग अस्पताल में लड़ रही है। वहीं घटना को लेकर एसपी पंकज कुमार ने कहा कि पुरानी रंजिश है। दोनों परिवार के बीच पहले दोस्ती थी जो फिलहाल दुश्मनी में बदल गई है।

उन्होंने कहा कि परिजनों के सुरक्षा को लेकर घर पर पुलिस जवान की स्थायी ड्यूटी लगाई गई है। वहीं अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर एसडीपीओ शिवम कुमार के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है। वहीं उन्होनें एक ही परिवार के साथ लगातार हो रही घटना को लेकर स्थानीय पुलिस की भूमिका के जांच की बात कही।