DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बिहार के लिए आफत बनी नेपाल की बारिश, जिला प्रशासन ने जारी किया अलर्ट, यहां तबाही मचा सकती है गंडक
बिहार

बिहार के लिए आफत बनी नेपाल की बारिश, जिला प्रशासन ने जारी किया अलर्ट, यहां तबाही मचा सकती है गंडक

वरीय संवाददाता,मुजफ्फरपुरPublished By: Sneha Baluni
Thu, 17 Jun 2021 08:46 AM
बिहार के लिए आफत बनी नेपाल की बारिश, जिला प्रशासन ने जारी किया अलर्ट, यहां तबाही मचा सकती है गंडक

नेपाल के साथ-साथ पश्चिम चंपारण में हुई भारी बारिश के बाद उत्तर बिहार अलर्ट मोड में आ गया है। बुधवार को वाल्मीकि नगर बराज से रिकॉर्ड 4.12 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। इस कारण गंडक नदी के जलस्तर में अप्रत्याशित वृद्धि और बाढ़ की आशंका को देखते हुए जल संसाधन विभाग व जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। 

वाल्मीकि नगर से छोड़ा गया पानी गुरुवार तक मुजफ्फरपुर के पारू व साहेबगंज पहुंचने की आशंका है। इस कारण नदी की पेटी में बसे करीब नौ पंचायतों पर खतरा मंडराने लगा है। इन पंचायतों के लोगों को बाहर ऊंचे स्थान पर जाने का निर्देश दिया गया है। गंडक में नेपाल के पोखरा से पानी आता है। 

बुधवार तक नेपाल के पोखरा में 93 मिमी बारिश हुई है, जबकि वाल्मीकिनगर में 170 मिमी बारिश दर्ज की गई है। बराज में पानी बढ़ने के बाद वहां से 4.12 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया। मानसून की शुरुआत में इतनी मात्रा में पानी छोड़े जाने का यह रिकॉर्ड है। बराज में पानी की मात्रा इतनी अधिक हो गई है कि इसके सभी फाटक खोल दिए गए हैं। 

वाल्मीकि नगर से निकलने वाला पानी मुजफ्फरपुर में तबाही मचा सकता है। पारू व साहेबगंज की नौ पंचायत के लोगों को अब बांध पर शरण लेना मजबूरी हो गई है। गंडक के अलावा बुधवार को जिले की बाकी दो प्रमुख नदियों बूढ़ी गंडक व बागमती के जलस्तर में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। 

हालांकि, ये नदियां अभी खतरे के निशान से नीचे हैं, लेकिन उत्तर बिहार में हो रही लगातार बारिश को देखते हुए इनके जलस्तर में और बढ़ोतरी की संभावना है। बुधवार को मुजफ्फरपुर में भी 36.16 मिमी बारिश हुई है व मौसम लगातार और बारिश के संकेत दे रहा है। मौसम विभाग ने कहा है कि उत्तर बिहार में अभी तीन दिनों तक बारिश की संभावना है।

संबंधित खबरें