DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों के बिछाए प्रेशर माइंस बन सकते हैं मुसीबत

नक्सल विरोधी अभियान में लगे सुरक्षाबलों के लिए प्रेशर माइंस मुसीबत का सबब बन सकते हैं। बिहार के नक्सलियों के पास प्रेशर माइंस बनाने की तकनीक आ गई है। नक्सल विरोधी अभियान से जुड़े वरीय पुलिस अधिकारी के मुताबिक नक्सली बड़े पैमाने पर इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। खासकर अपने प्रभाव वाले इलाकों में नक्सलियों ने प्रेशर माइंस लगाये हैं। 

छत्तीसगढ़ के नक्सलियों से सीखी तकनीक 
बिहार के कई नक्सली कमांडर वर्ष 2017 के आखिर में भाकपा (माओवादी) संगठन के शीर्ष नेतृत्व से मिलने झारखंड-छत्तीसगढ़ के इलाके में गए थे। करीब एक साल तक वे उधर ही रहे। कमांडरों के साथ उनके खास हथियारबंद दस्ते भी मौजूद थे। ऐसी बात सामने आई है की उसी दौरान बिहार के कई नक्सलियों को प्रेशर माइंस बनाने की तरकीब सिखाई गई। साल 2018 के सितम्बर में इनकी वापसी बिहार में हुई है। बिहार आने के बाद नक्सली बड़ी संख्या में प्रेशर माइंस बना अपने प्रभाव वाले इलाकों में लगाते जा रहे हैं। 3 मई को ही औरंगाबाद के लंगुराही में नक्सलियों द्वारा लगाए गए प्रेशर माइंस की चपेट में आने से कारू भुईयां नाम के लकड़हारे की मौत हो गई थी। प्रेशर माइंस लगाने के पीछे नक्सलियों की मंशा सुरक्षाबलों को खुद तक पहुंचने से रोकना है। अबतक लैंडमाइंस नक्सलयों का सबसे कारगर हथियार रहा है। सुरक्षाबलों को इससे मुकाबले को एंटी लैंडमाइंस गाड़ियां दी गई हैं। 

साथ ही उनका ज्यादतर अभियान अब पैदल या बाइक से होता है। ऐसे में लैंडमाइंस का इस्तेमाल कर नक्सली सुरक्षाबलों को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा पा रहे। लैंडमाइंस को विस्फोट कराने के लिए तार और आदमी की जरूरत होती है। भले ही प्रेशर माइंस से बड़ा नुकसान नहीं होता है पर जिस किसी का पैर उसके नीचे पड़ता है उसका बचना मुश्किल होता है। छोटे होने के चलते इसे आसानी ने जमीन के नीचे छुपाया भी जा सकता है।

प्रेशर माइंस क्या है 
प्रेशर माइंस एक विस्फोटक है जो प्रेशर तकनीक पर आधारित होता है। इससे बड़े और छोटे दो तरह के नुकसान के हिसाब से नक्सली बनाते हैं। इंसान को टारगेट करने के लिए दो किलोग्राम के आसपास का वजन होता है। वहीं गाड़ियों को निशाना बनाने के लिए ज्यादा भारी-भरमक प्रेशर माइंस लगाए जाते हैं। इसमें दो तरह से धमाका होता है। या तो वजन पड़ने पर यह ब्लास्ट होता है या फिर वजन हटते ही धमाका होता है।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Maoists use pressure mines can become trouble in Bihar