DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़की ने जिस पर लगाया था रेप का आरोप, एक साल बाद जेल में उसी से की शादी

marriage in jail

सोमवार को मंडल कारा में सुबह से ही गहमागहमी बनी हुई थी। मामला था मंडल कारा के भीतर ही एक बंदी युवक के सात फेरे लेने की। सुबह करीब 11 बजे मंडल कारा के भीतर शहनाई की गूंज सुनायी पड़ने लगी। मंगल गीत गाये जाने लगे। इस बीच स्थानीय पंडित उमाकांत पांडेय के द्वारा हिन्दू रीति रिवाज से मंडल कारा में बंद दुष्कर्म मामले के आरोपी व्यास पांडेय का विवाह पीड़ित युवती के साथ कराया गया।

मंडल कारा में ही जेल प्रशासन की उपस्थिति में बिना दहेज की शादी संपन्न करायी गयी। कारा प्रशासन के अधिकारी इस वैवाहिक कार्यक्रम का गबाह बने। यूं तो वधू पक्ष की ओर से युवती की मां, छोटा भाई और बुआ मौजूद थी। वहीं वर पक्ष से कोई भी परिवार नहीं आया था। वर पक्ष की ओर से परिवार की भूमिका जेल में तैनात जवान और अधिकारी निभा रहे थे। मंडल कारा परिसर में पूरे उत्साह के साथ इस वैवाहिक कार्यक्रम को संपन्न कराया गया। मिठाइयां भी जेल प्रशासन की ओर से बांटी गयी।

बुआ ने कन्यादान किया। यह बता दें कि वर्ष 2017 में गिद्धौर थाना क्षेत्र के गेनाडीह निवासी एक व्यक्ति की बेटी ने स्थानीय थाने में धारा-363,376,34 भादवि के तहत प्राथमिकी दर्ज करायी थी। इस मामले में बरहट थाना क्षेत्र के निवासी विरजू पांडेय के पुत्र व्यास पांडेय को आरोपी बनाया गया था। पीड़ित लड़की ने आरोपी पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। यह मामला व्यवहार न्यायालय स्थित अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी तृतीय के न्यायालय में चल रहा था।

आरोपी के पक्ष की ओर से जिला जज के न्यायालय में आवेदन दिया गया था जिसमें यह कहा गया था कि वह पीड़ित लड़की के साथ शादी करने को तैयार है। जिस पर पीड़ित लड़की ने भी सहमति जतायी थी। न्यायालय के आदेश के आलोक में सोमवार को मंडल कारा स्थित मंदिर परिसर में व्यास पांडेय और निभा ने सात फेरे लिये। इस मौके पर काराधीक्षक सिप्रियन टोप्पो, सहायक जेलर मनोज कुमार सिंह समेत कई लोग मौजूद थे। यह जानकारी काराधीक्षक ने दी। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:man whom she had imposed on Rape got married in the jail a year later bihar