DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  कोरोना: मामा की जिंदगी बचाने के लिए तीन घंटे तक दौड़ता रहा भांजा, मौत के बाद खुद पीपीई किट पहन किया शव पैक

बिहारकोरोना: मामा की जिंदगी बचाने के लिए तीन घंटे तक दौड़ता रहा भांजा, मौत के बाद खुद पीपीई किट पहन किया शव पैक

लाइव हिन्दुस्तान,पश्चिमी चंपारणPublished By: Sneha Baluni
Sat, 15 May 2021 03:58 PM
कोरोना: मामा की जिंदगी बचाने के लिए तीन घंटे तक दौड़ता रहा भांजा, मौत के बाद खुद पीपीई किट पहन किया शव पैक

कोरोना काल में कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिसमें इंसानियत के दम तोड़ने के कई मामले सामने आ रहे हैं। जहां कोई बेटा अपने पिता का शव लेने से मना कर रहा है तो वहीं रिश्तेदार अंतिम संस्कार तक के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। ऐसे में पश्चिमी चंपारण के बगहा के एक युवक ने मिसाल पेश की है।

युवक का नाम अमित है। मामा की मौत से पहले वह उन्हें बचाने के लिए तीन घंटे तक दौड़ता रहा। हालांकि मामा की जान नहीं बच सकी। इसके बाद अस्पताल ने उन्हें एंबुलेंस तो दे दी लेकिन शव को पैक नहीं किया। फिर अमित ने हिम्मत दिखाई और अपने मामा के शव को पीपीई किट पहनकर खुद पैक किया और अंतिम संस्कार के लिए ले गया।

अमित ने कहा कि मैं उन्हें ऐसे ही कैसे छोड़ देता। मृतक की पहचान पिपरिया गांव के रहने वाले कृष्णा मिश्र के तौर पर हुई है। उनका बगहा अनुमंडलीय अस्पताल स्थित कोविड केयर सेंटर में इलाज चल रहा था। अचानक उनकी हालत गंभीर हो गई। सांस लेने में परेशानी होने लगी तो अमित नर्स से लेकर डॉक्टर के पास चक्कर लगाता रहा। लेकिन किसी ने उसकी बात नहीं सुनी और मामा की मौत हो गई।

संबंधित खबरें