DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा को छह सीटिंग सीटें छोड़नी पड़ीं

                                                           40

एनडीए के घटक दलों के लिए भाजपा को लोकसभा की छह सीटिंग सीटें छोड़नी पड़ीं। छह में पांच जदयू तो एक लोजपा के खाते में गई है। लोजपा के खाते में गई नवादा सीट से अभी केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सांसद हैं। जिन 17 सीटों पर भाजपा चुनाव लड़ेगी, उनमें से 16 पर भाजपा ने साल 2014 में  चुनाव जीता था।  केवल अररिया ऐसी सीट है जिस पर भाजपा पिछली बार चुनाव हारी थी पर इस बार भी यहां से वह अपना उम्मीदवार उतारेगी। 

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में 30 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली भाजपा ने 22 सीटें जीतीं थी। भाजपा की ओर से छोड़ी गई छह सीटिंग सीटों में पांच- वाल्मीकिनगर, झंझारपुर, सीवान, गोपालगंज व गया जदयू के खाते में गई हैं। सीट जाने के साथ ही यहां के मौजूदा सांसदों का टिकट से बेदखल होना लगभग तय माना जा रहा है। जबकि नवादा सीट लोजपा के कोटे में गई है। नवादा के सांसद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को बेगूसराय से एडजस्ट करने की चर्चा है। सीटों के बंटवारे से यह भी साफ हो गया कि कोसी व भागलपुर प्रमंडल में भाजपा का कोई उम्मीदवार नहीं होगा। कोसी प्रमंडल में लोकसभा की दो सीटें सुपौल व मधेपुरा जदयू के खाते में गई है। इसी तरह भागलपुर प्रमंडल की दो लोस सीटें बांका व भागलपुर भी जदयू के कोटे में ही गई है। 

एनडीए में जदयू अकेली ऐसा दल जो सभी प्रमंडल में लड़ेगा
एनडीए में जदयू एक मात्र ऐसी पार्टी है जिसके उम्मीदवार सूबे के सभी प्रमंडलों में होंगे। जदयू को मौजूदा दो सीटिंग सीटें नालंदा व पूर्णिया बरकरार रही हैं। साथ ही भाजपा की पांच सीटिंग सीटों के अलावा साल 2014 के लोकसभा चुनाव में रालोसपा के कोटे में रही तीन सीटें सीतामढ़ी, जहानाबाद व काराकाट मिली हैं। बाकी सात सीटें जदयू की परम्परागत मानी जाती रही है। भागलपुर व किशनगंज सीट लेकर जदयू ने जरूर चौंकाने वाले निर्णय लिए हैं। वर्ष 1998 से लेकर 2014 के बीच हुए छह चुनाव में चार बार भाजपा ने ही भागलपुर जीता है। 

लोजपा रही सबसे अधिक मुनाफे में 
सीट बंटवारे में लोजपा सबसे अधिक मुनाफे में रही है। पांच सीटिंग सीटें वैशाली, हाजीपुर, समस्तीपुर, जमुई व खगड़िया को बचाने में वह कामयाब रही। उसकी मुंगेर सीट गई भी तो बदले में नवादा मिल गई। उसके लिए यह भी संतोषजनक है कि सामाजिक संरचना के हिसाब से मुंगेर व नवादा में कोई खास अंतर नहीं है। 

छह सुरक्षित में तीन लोजपा, दो जदयू, एक भाजपा को  
राज्य में छह सुरक्षित लोकसभा सीटें हैं। इनमें तीन हाजीपुर, समस्तीपुर व जमुई पर लोजपा के सांसद हैं। इस बार भी यह तीनों सीट लोजपा को ही मिली है। बाकी तीन सीट गया, गोपालगंज व सासाराम भाजपा के कब्जे में थी। लेकिन गया व गोपालगंज अब जदयू के खाते में चली गई है। दो सुरक्षित सीट लेकर जदयू ने कमजोर वर्गों के बीच अपनी प्रतिबद्धता को दिखाने की कोशिश की है। भाजपा के पास अब एकमात्र सुरक्षित सीट सासाराम रह गई है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha elections in 2019 BJP leave six seating seats In Bihar