DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर बढ़ी शराब की तस्करी, पुलिस भी चौकस, आचार संहिता लागू होने के बाद से 4.50 लाख लीटर शराब जब्त
बिहार

बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर बढ़ी शराब की तस्करी, पुलिस भी चौकस, आचार संहिता लागू होने के बाद से 4.50 लाख लीटर शराब जब्त

पटना, हिन्दुस्तान टीमPublished By: Malay Ojha
Mon, 27 Sep 2021 10:11 PM
बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर बढ़ी शराब की तस्करी, पुलिस भी चौकस, आचार संहिता लागू होने के बाद से 4.50 लाख लीटर शराब जब्त

शराब तस्कर डाल-डाल तो पुलिस पात-पात है। बिहार में शराब तस्करी और इसके खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई का हाल कुछ ऐसा ही है। पंचायत चुनाव के मद्देनजर शराब की तस्करी बढ़ने की आशंका को लेकर पहले से सतर्क मद्यनिषेध इकाई ने हाल के दिनों में बड़े पैमाने पर अवैध शराब की बरामदगी की है। 

आचार संहिता लागू होने के बाद से अब तक पुलिस ने करीब साढ़े चार लाख लीटर शराब जब्त की गई है। इसमें 25 फीसद से अधिक शराब पहले चरण वाले चुनाव के इलाकों से पकड़ी गई है। इसके अलावा मद्य निषेध एवं उत्पाद विभाग की टीम ने भी इस माह 1.20 लाख लीटर से अधिक शराब पकड़ी है। 24 अगस्त से पूरे राज्य में 4 लाख 50 हजार लीटर से अधिक शराब जब्त की गई है। इसमें एक लाख 25 हजार लीटर शराब सिर्फ पहले चरण के 10 जिलों से बरामद हुई है। मद्यनिषेध टीम ने दो दिनों में ही 17 हजार लीटर से अधिक शराब जब्त की है। इसमें सबसे अधिक 5250 लीटर स्प्रिट मोतिहारी के पिपरा थाना क्षेत्र से बरामद की गई। मुजफ्फरपुर के मुसहरी से यूपी के ट्रक में लदी 4374 लीटर शराब जब्त की गई है। 

पंचायत चुनाव को लेकर मद्य निषेध एवं उत्पाद विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम ने विशेष अभियान शुरू कर रखा है। इसके अलावा मुख्यालय स्तर से भी उत्पाद और पुलिस विभाग के पदाधिकारी फील्ड में जा रहे हैं। डीएसपी रैंक के अफसरों को भी बारी-बारी से भेजा जा रहा है। यही कारण है कि हाल के दिनों में शराब की कई बड़ी खेप पकड़ी गई है। मद्य निषेध अधिकारियों के अनुसार जहां पंचायत चुनाव पहले है, वहां ज्यादा फोकस किया जा रहा है। संबंधित जिला पुलिस को भी गश्ती और वाहन चेकिंग बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।

संबंधित खबरें