Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारबिहार विधानसभा परिसर में शराबः डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी करेंगे जांच, तेजस्वी पर नीतीश का पलटवार

बिहार विधानसभा परिसर में शराबः डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी करेंगे जांच, तेजस्वी पर नीतीश का पलटवार

पटना लाइव हिन्दुस्तानYogesh Yadav
Tue, 30 Nov 2021 07:26 PM
बिहार विधानसभा परिसर में शराबः डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी करेंगे जांच, तेजस्वी पर नीतीश का पलटवार

इस खबर को सुनें

बिहार विधानसभा परिसर में शराब की बोतल मिलने के मामले को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सदन के बाहर उठाने के बाद कार्यवाही के दौरान भी लगातार उठाया। इसे लेकर पहले हंगामा हुआ फिर विधानसभा स्पीकर के आदेश पर नीतीश कुमार ने डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी से मामले की जांच की बात कही। बाद में मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण और डीजीपी एसके सिंघल को विधान परिषद के अपने चैंबर में बुलाया और पूरे मामले की जांच कराने का निर्देश दिया।

विधानसभा में तेजस्वी के मामला उठाने के दौरान नीतीश कुमार खड़े हुए और शराब की बोतल मिलने पर गहरी नाराजगी जाहिर की। नीतीश ने कहा कि विधानसभा कैम्पस में शराब की बोतल मिलना छोटी बात नहीं है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जो भी गड़बड़ी कर रहा है उसे छोड़ा नहीं जा सकता है। डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी से इसकी जांच कराई जानी चाहिए। सीएम नीतीश ने विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा से आग्रह किया कि आप जांच का आदेश दें, पूरी गंभीरता से जांच होगी, जो भी दोषी होंगे उन्हें किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

 नीतीश ने तेजस्वी यादव को अपने अंदाज में जवाब भी दिया। सीएम ने उन्हें साफ-साफ अपना जवाब देते हुये कहा कि आप सोशल मीडिया में पत्र लिखते हैं। सोशल मीडिया में कुछ भेजिएगा तो हम नहीं पढ़ेंगे, अगर आप पत्र लिखिएगा तब न पढ़ेंगे। सीएम ने तेजस्वी को नसीहत देते हुये कहा कि आप हमको डायरेक्ट पत्र भेज दीजिए, हम पढ़ लेंगे. लेकिन, पत्र मुझे मिलने से पहले मीडिया में लीक हो जाता है।

इससे पहले सदन की कार्यवाही के दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सदन में शराबबंदी के और विधानसभा परिसर में शराब की बोतलें मिलने का मुद्दा उठाया। तेजस्वी ने कहा कि इतने सुरक्षा घेरे के बावजूद विधान सभा कैंपस में शराब की बोतल कैसे मिलती है, मुख्यमंत्री होम मिनिस्टर भी हैं, उन्हें नैतिकता के नाम पर इस्तीफा दे देना चाहिए। आखिर ऐसे में शराबबंदी को लेकर शपथ लेने का क्या मतलब है। तेजस्वी ने कहा कि सिर्फ छोटी मछली पर कार्रवाई हो रही है।

इधर विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने विधानसभा की सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश दिया है। उन्होंने सदन में तेजस्वी यादव के बयान को लेकर कहा कि आप भी सचेत रहिए कहीं आपके आवास से भी शराब की बोतलें न निकल जाए। उन्होंने तेजस्वी को नसीहत देते हुये कहा कि आज आप विपक्ष में बैठे है लेकिन जब शराबबंदी हुआ था आप सत्ता में थे। अगर आप आज भी शराब बंदी के पूरी तरह से समर्थन में रहेंगे तो शराब बंदी सफल होगी।

epaper

संबंधित खबरें