ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारसंविधान बदलने की कोशिश करोगे तो जनता आंख निकाल देगी, बीजेपी पर बरसे लालू यादव

संविधान बदलने की कोशिश करोगे तो जनता आंख निकाल देगी, बीजेपी पर बरसे लालू यादव

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी के उन नेताओं पर निशाना साधा है जो संविधान बदलने की बात कर रहे हैं। लालू ने कहा कि ऐसा करने की कोशिश करोगे तो जनता आंख निकाल देगी।

संविधान बदलने की कोशिश करोगे तो जनता आंख निकाल देगी, बीजेपी पर बरसे लालू यादव
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाMon, 15 Apr 2024 11:58 AM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के बीच आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी नेताओं को चेतावनी दी है। लालू ने कहा कि बीजेपी के नेता लगातार संविधान को बदलने की बात कर रहे हैं। अगर वे ऐसा करने की कोशिश करेंगे, तो देश की गरीब जनता उनकी आंख निकाल देगी। जनता उन्हें माफ नहीं करेगी। उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी देश में अपनी तानाशाली लागू करना चाहती है। संविधान को बदलना यानी लोकतंत्र को खत्म करना है। लालू ने बीजेपी के 400 पार वाले नारे पर भी तंज कसा।

आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने सोमवार को मीडिया से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के नेता घबराहट में हैं। वे मान कर बैठे हैं कि लोकसभा चुनाव में हार रहे हैं। इसलिए वे 400 पार सीटें लाने की बात कर रहे हैं। वे जनता के बीच जाकर लोगों से भारी बहुमत मांग रहे हैं, ताकि संविधान को बदल सकें। 

उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी को याद होगा, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने देश में आरक्षण पर पुनर्विचार की बात कही थी। उस समय जनता ने इनके इरादे को पूरी तरह नेस्तनाबूद कर दिया था। वही हाल इस बार भी होगा। बीजेपी फिर से पुरानी वाली स्थिति पर पहुंच जाएगी। 

लालू यादव ने कहा कि बीजेपी के नेता खुल्लमखुल्ला बोल रहे हैं कि संविधान को बदल देंगे। उन्होंने कहा, "यह बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर का बनाया हुआ संविधान है, किसी ऐरे-गैरे बाबा का बनाया हुआ नहीं है। खबरदार इस तरह का साहस किया तो जनता चुप नहीं बैठेगी। संविधान बदलकर ये देश से लोकतंत्र को खत्म करना चाहते हैं।"

तेजस्वी की रोजगार क्रांति से डर गए, बीजेपी पर बरसीं रोहिणी

लालू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीजेपी के उन नेताओं पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हैं, जो संविधान बदलने की बात कर रहे हैं। उल्टे वे जनता से बहुमत मांग रहे हैं। बहुमत वाला समय अब चला गया है।