ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमुसलमानों की हकमारी की लालू ने, कटिहार से नहीं लड़ सके अशफाक करीम का आरजेडी से इस्तीफा

मुसलमानों की हकमारी की लालू ने, कटिहार से नहीं लड़ सके अशफाक करीम का आरजेडी से इस्तीफा

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव पर मुसलमानों की हकमारी का आरोप लगाते हुए पूर्व सांसद अशफाक करीम ने राजद से इस्तीफा दे दिया है। अशफाक कटिहार से टिकट न मिलने से नाराज थे।

मुसलमानों की हकमारी की लालू ने, कटिहार से नहीं लड़ सके अशफाक करीम का आरजेडी से इस्तीफा
Sandeepहिन्दुस्तान ब्यूरो,पटनाSat, 13 Apr 2024 06:53 AM
ऐप पर पढ़ें

राजद के पूर्व राज्यसभा सांसद अहमद अशफाक करीम ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया। शुक्रवार को उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को पत्र लिखकर अल्पसंख्यको को सम्मानजनक हिस्सेदारी नहीं देने का आरोप लगाया। हालांकि उन्होंने लालू प्रसाद के स्वस्थ्य रहने की कामना भी की। मिली जानकारी के मुताबिक राज्यसभा और फिर कटिहार लोकसभा से राजद का टिकट नहीं मिलने से नाराज पूर्व सांसद करीम अब जदयू के करीब हैं। जल्द ही वे विधिवत जदयू में शामिल हो सकते हैं।

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को भेजे गए त्यागपत्र में अशफाक ने मुसलमानों की हकमारी की बात कही है। आबादी के हिसाब से सम्मानजनक हिस्सदारी नहीं दी गई है। अशफाक ने लिखा कि मैं आपकी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र देता हूं। मैं आपकी पार्टी से सामाजिक न्याय को ताकत प्रदान करने हेतु जुड़ा था। आप जातीय जनगणना कराने का दावा करते थे।। जिसकी जिनकी भारीदारी उसकी उतनी हिस्सेदारी का नारा देते थे।

लेकिन आपने मुसलमानों की हकमारी की है। उनकी आबादी के अनुरूप तो दूर सम्मानजनक हिस्सेदारी भी नहीं दी है। इसलिए इस परिस्थिति में राजद के साथ राजनीति करना मेरे लिए संभव नहीं है। मेरे इस त्यागपत्र को स्वीकार करें। मैं हमेशा आपके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं। 

जानकारी के मुताबिक अशफाक करीम टिकट न मिलने से नाराज थे। और करीम का कहना है कि अल्पसंख्यकों को पार्टी में उचित सम्मान नहीं मिला। दरअसल अशफाक के कटिहार लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की चर्चा थी। लेकिन महागठबंधन में हुए सीट बंटवारे में कटिहार कांग्रेस के खाते में चली गई। जहां से कांग्रेस ने तारिक अनवर को प्रत्याशी बनाया है। हालांकि लालू यादव ने अशफाक को निर्दलीय चुनाव लड़ने की सलाह दी थी। जिसे करीम ने ठुका दिया था। और पर्चा नहीं भरा था।