ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारललन सिंह ने पीएम मोदी से फिर की ये मांग, कहा- सीएम नीतीश के नेतृत्व में अपने दम पर बढ़ रहा बिहार लेकिन....

ललन सिंह ने पीएम मोदी से फिर की ये मांग, कहा- सीएम नीतीश के नेतृत्व में अपने दम पर बढ़ रहा बिहार लेकिन....

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने एक बार फिर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग की है। उन्होंने एक वीडियो ट्वीट करके पीएम नरेंद्र मोदी से इसपर...

ललन सिंह ने पीएम मोदी से फिर की ये मांग, कहा- सीएम नीतीश के नेतृत्व में अपने दम पर बढ़ रहा बिहार लेकिन....
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,पटनाThu, 27 Jan 2022 12:38 PM

इस खबर को सुनें

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने एक बार फिर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग की है। उन्होंने एक वीडियो ट्वीट करके पीएम नरेंद्र मोदी से इसपर ध्यान देने की गुजारिश की है। उन्होंने कहा कि विशेष राज्य के बिना राज्य का पिछड़ापन दूर नहीं होगा।

ललन सिंह ने कहा, 'बंटवारे के बाद बिहार के पास कोई खनिज संपदा नहीं बचा, हर वर्ष बाढ़-सुखाड़ व आपदाओं पर हजारों करोड़ खर्च होता है। माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में अपने दम बिहार बढ़ तो रहा है, पर #विशेष_राज्य के बिना पिछड़ापन दूर नहीं होगा।' अपने ट्वीट के साथ उन्होंने #देश_के_प्रधान_बिहार_पर_दें_ध्यान हैशटैग का इस्तेमाल किया है।

 

 

केंद्र सरकार से न्याय चाहिए

इससे पहले ललन सिंह ने बुधवार को एक वीडियो ट्वीट करते हुए बिहार के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग की थी। उन्होंने लिखा था, 'भीख नहीं न कर्जा चाहिए, #विशेष_राज्य का दर्जा चाहिए। नहीं मिला है न्याय अभी तक, केंद्र सरकार से न्याय चाहिए।' इसके साथ भी उन्होंने #देश_के_प्रधान_बिहार_पर_दें_ध्यान हैशटैग का इस्तेमाल किया था।

बिहार बीजेपी ने खारिद की थी जदयू की मांग

काफी समय से जदयू बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग कर रही है। पिछले दिनों से पार्टी इस मांग पर काफी आक्रामक रुख अपनाए हुए है। इसका कारण सहयोगी बीजेपी का मुद्दे को ठंडे बस्ते में डालना माना जा रहा है। पिछले हफ्ते बिहार बीजेपी अध्यक्ष डॉ. सजय जायसवाल ने जदयू की इस मांग को यह दावा करते हुए खारिज कर दिया था कि बिहार को मिलने वाली केंद्रीय सहायता महाराष्ट्र जैसे अधिक आबादी वाले प्रांत से अधिक है।

epaper