ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपहली बार सांसद, पहली बार में मंत्री; मोदी सरकार में मुजफ्फरपुर से एमपी राजभूषण निषाद की एंट्री

पहली बार सांसद, पहली बार में मंत्री; मोदी सरकार में मुजफ्फरपुर से एमपी राजभूषण निषाद की एंट्री

पहली बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले राजभूषण चौधरी निषाद को मोदी कैबिनेट में स्थान मिला है। कांग्रेस के अजय निषाद को हराकर मुजफ्फरपुर के एमपी बने हैं। मल्लाह जाति को विधानभा चुनाव में साधने की रणनीति है।

पहली बार सांसद, पहली बार में मंत्री; मोदी सरकार में मुजफ्फरपुर से एमपी राजभूषण निषाद की एंट्री
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,दिल्लीSun, 09 Jun 2024 09:38 PM
ऐप पर पढ़ें

पहली बार लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे मुजफ्फरपुर के सांसद राजभूषण चौधरी निषाद नरेंद्र मोदी की सरकार में मंत्री बनाए गए हैं। मोदी केबिनेट 3.0 के सदस्य के रूप में उन्होंने रविवार को पद और गोपनीयता की शपथ ली। राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में महामहिम द्रौपदी मुर्मू ने उन्हें शपथ दिलाई। राजभूषण चौधरी निषाद की इस बड़ी उपलब्धि से बिहार बीजेपी में उत्साह का माहौल है।

संक्षिप्त राजनीतिक सफर

राज भूषण चौधरी निषाद का राजनीतिक सफर काफी संक्षिप्त है। मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर दूसरी बार चुनाव लड़ा और अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के अजय निषाद को लगभग 2,35,000 मतों के अंतर से पराजित किया। इससे पहले 2019 के लोकसभा चुनाव में पहली बार भाग्य आजमाया था। तब मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी के उम्मीदवार के तौर पर राजभूषण निषाद मुजफ्फरपुर में उस समय के बीजेपी कैंडिडेट अजय निषाद को टक्कर दे रहे थे। अजय निषाद ने  4 लाख ज्यादा  वोटो से राजभूषण को पराजित किया था।  2022 में राजभूषण निषाद को बीजेपी में शामिल कराया गया और उन्हें प्रदेश उपाध्यक्ष भी बनाया गया।

जो भाजपा में लाया उसी का पत्ता साफ किया

चर्चा है कि अजय निषाद के माध्यम से राजभूषण भाजपा में आए थे। 2022 में मुज़फ़्फ़रपुर के बोचहां विधानसभा का उपचुनाव अजय निषाद के लिए नाक का सवाल बन गया था। बीजेपी उम्मीदवार बेबी कुमारी की सीधी टक्कर विकासशील इंसान पार्टी के कैंडिडेट अमर पासवान से थी। अमर पासवान के पिता मुसाफिर पासवान की निधन के बाद यह सीट खाली हुआ था जो वीआईपी के विधायक थे। रणनीति के तहत अजय निषाद ने मुकेश सहनी को कमजोर करने के लिए राजभूषण को VIP छोड़कर भाजपा में शामिल करा लिया। लेकिन जिस राजभूषण को अजय निषाद पार्टी में लाए उसी ने 2024 के लोकसभा चुनाव में उनका पता साफ कर दिया। टिकट नहीं मिलने पर अजय निषाद ने बीजेपी छोड़ दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए।

पेशे से डॉक्टर है राज भूषण

मुजफ्फरपुर सांसद राजभूषण निषाद पेशे  से डॉक्टर हैं। उन्होंने पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज धनबाद से एमबीबीएस की पढ़ाई की है और डीएमसीएच से एमडी किया है। राजभूषण निषाद ने डीएमसीएच, संतोष मेडिकल कॉलेज  गाजियाबाद समेत कई संस्थानों में बतौर डॉक्टर काम किया है। वर्तमान में समस्तीपुर में अपना प्राइवेट हॉस्पिटल भी चलाते हैं। वह उद्योगपति भी हैं। उनकी पत्नी डॉक्टर कंचन माला भी एमबीबीएस, एमडी डॉक्टर हैं।

पहली जीत पर क्यों बनाए गए मंत्री?

पहली जीत में मंत्री बने राजभूषण निषाद का जन्म 4 जुलाई 1977 को हुआ था। उनके पिता का नाम इंद्रदेव चौधरी है। वह विकासशील इंसान पार्टी के संस्थापक सदस्यों में एक है और  राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। राजभूषण बिहार निषाद संघ के मुख्य संरक्षक भी हैं। फिलहाल बीजेपी में बिहार इकाई के उपाध्यक्ष हैं। कहा जा रहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव में निषाद वोटों को अपने पक्ष में साधने की रणनीति के तहत राजभूषण चौधरी निषाद को पहली जीत के बाद ही मंत्री बना दिया गया है।

 

Advertisement