DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बिहार : पोती के साथ टॉयलेट में रह रही वृद्ध महिला का वीडियो वायरल, जानिए क्या है सच्चाई

बिहारबिहार : पोती के साथ टॉयलेट में रह रही वृद्ध महिला का वीडियो वायरल, जानिए क्या है सच्चाई

लाइव हिन्दुस्तान,नालंदाPublished By: Dinesh Rathour
Fri, 11 Jun 2021 05:21 PM
बिहार : पोती के साथ टॉयलेट में रह रही वृद्ध महिला का वीडियो वायरल, जानिए क्या है सच्चाई

बिहार में एक वृद्ध महिला का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में वृद्ध महिला अपनी पोती के साथ शौचालय में नजर आ रही है। वायरल वीडियो में महिला जिस जगह पर बैठी है वहां खाने-पीने का सामान भी रखा नजर आ रहा है। इसी जगह पर टॉयलेट की सीट भी नजर आ रही है। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि महिला शौचालय में पोती के रहती है। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में दावा किया जा रहा है कि वृद्धा के पास घर न होने की वजह से वह अपनी पोती संग शौचालय में रहने को मजबूर है। मामला नीतीश कुमार के गांव से जुड़ा होने के कारण शासन से लेकर प्रशासन तक हरकत में आया और वायरल वीडियो की सच्चाई परखी। प्रशासन की जांच-पड़ताल में वीडियो को फर्जी बताया गया है।


जानकारी के अनुसार वृद्धा सीएम नीतीश कुमार के गृह जनपद नालांदा के मकरौता पंचायत के अंतर्गत दिरीपर गांव के वार्ड नंबर 3 की रहने वाली है।  महिला का शौचालय में रहने का वीडियो वायरल होते ही शासन से लेकर प्रशासन तक हड़कंप मच गया। आनन-फानन संबंधित जिले के डीएम ने मौके पर जाकर हकीकत जानी। उन्होंने मामले को फर्जी बताया है। वायरल वीडियो पर बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने भी सफाई देते हुए वीडियो को फर्जी बताया। उन्होंने ट्वीट कर जानकारी दी है कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल करके अफवाह फैलाई जा रही थी कि एक बुजुर्ग महिला अपनी पोती के साथ शौचालय में रह रही है।

उन्होंने कहा, डीएम नालंदा की ओर से कराए गए स्थल निरीक्षण में पता चला है कि उक्त महिला कौशल्या देवी शौचालय के बगल में एक झोपड़ी में रहती है। मंत्री ने कहा कि कौशल्या देवी की एक पोती के अलावा परिवार का कोई अन्य सदस्य साथ में नहीं रहता है। महिला को वृद्धावस्था पेंशन और सार्वजनिक वितरण प्रणाली का अनाज भी मिलता है। साथ ही वृद्धा को भोजन की समस्या नही हैं। जिला प्रशासन की ओर से महिला की झोपड़ी बनाया जाएगा और उससे लगती गली को भी पक्का करवाया जाएगा। 

नालंदा के जिलाधिकारी का कहना है कि मामला संज्ञान में आते ही वह निरीक्षण करने पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि इस दौरान उन्हें वृद्धा कौशल्या देवी शौचालय से सटे पुराने करकट से बने एक छोटे से कमरे में अपनी पोती के साथ मिली। उन्होंने बताया कि शौचालय में रहने संबंधी खबर गलत है। वृद्धा के तीन बेटे हैं। तीसरे बेटे रामधीन प्रसाद ने बताया कि वे बहुत गरीब हैं और पैर से लाचार भी। उन्होंने बताया कि वे हिलसा में कस्तूरबा विद्यालय के समीप साइकिल मरम्मत की दुकान चलाते हैं। प्रसाद ने अपनी मां को अपने साथ रहने के लिए कहा लेकिन उन्होंने साथ रहने से इनकार कर दिया।

संबंधित खबरें