ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार में आज होगा खेला, बड़े सियासी तूफान का संकेत है नीतीश कुमार की खामोशी?

बिहार में आज होगा खेला, बड़े सियासी तूफान का संकेत है नीतीश कुमार की खामोशी?

बिहार में राजनीतिक हलचल तेज है। भाजपा सक्रिय है और आरजेडी में हलचल देखी जा रही है। लेकिन इस बीच मुख्य आकर्षण का केंद्र जेडीयू में शांति नजर आई।

बिहार में आज होगा खेला, बड़े सियासी तूफान का संकेत है नीतीश कुमार की खामोशी?
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 27 Jan 2024 11:47 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार की सियासी हलचल के बीच अगर कोई शांत है तो वह हैं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। यह खामोशी इशारा कर रही है कि अब सियासी तूफान और भी बड़ा होने वाला है। अटकलों के बीच आरजेडी की परेशानी साफ झलक रही है। वहीं  भाजपा भी अपने पत्ते परखने में लगी हुई है। शनिवार शाम भाजपा कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई जिसमें विधायक, सांसद और अन्य नेता मौजूद रहे। वहीं रविवार को भी सुबह 10 बजे भाजपा की बैठक बुलाई गई है। बताया जा रहा है कि रविवार को सुबह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर सुबह विधायकों की बैठक होगी।

कयास यही है कि नीतीश एनडीए में दाखिल होने जा रहे हैं। वहीं आरजेडी से एक बार फिर वह दूरी बनाने जा रहे हैं। बात करें आरजेडी की तो तेजस्वी यादव ने भी कहा है कि खेला अभी शुरू ही नहीं हुआ। शुक्रवार से ही बिहार की हलचल तेज है। वहीं शनिवार को दिल्ली से पटना तक बैठकें चलती रहीं। हालांकि पहले कहा जा रहा था कि शनिवार शाम को ही नीतीश कुमार इस्तीफा दे सकते हैं। अब मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार रविवार सुबह इस्तीफा देंगे औऱ इसके बाद शाम तक वह नए मंत्रिमंडल के साथ शपथ भी ले सकते हैं। 

राजभवन में शपथ ग्रहण की तैयारी?
सूत्रों का कहना है कि राजभवन में शपथग्रहण की तैयारी की गई है। वहीं सचिवालय भी रविवार को खुला रहेगा। भाजपा नेताओं ने भी अभी इस घटनाक्रम पर स्पष्ट कुछ नहीं कहा है। बताया जा रहा है कि भाजपा आलाकमान ने प्रदेश के नेताओं को बयानबाजी से बचने को कहा है। कार्यकारिणी की बैठक के बाद भाजपा नेताओँ ने इतना ही कहा कि यह बैठक 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी के लिए और जननायक कर्पूरी ठाकुर को प्रचारित करने के लिए बुलाई गई थी। 

बिखर जाएगा इंडिया गठबंधन
नीतीश के एनडीए में शामिल होते ही इंडिया गठबंधन बिखरा हुआ नजर आएगा। वैसे भी ममता बनर्जी ने पहले ही पश्चिम बंगाल में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। नीतीश कुमार गठबंधन से दूर नजर ही आ रहे हैं। अब देर है तो बस औपचारिक ऐलान की। नीतीश कुमार ही वह शख्स थे जिन्होंने विपक्षी एकता का झंडा सबसे पहले बुलंद किया था। हालांकि गठबंधन में सबसे बड़ी जिम्मेदारी ना मिलने के बाद वह असंतुष्ट नजर आ रहे थे। 

आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि उनकी पार्टी ने नीतीश के साथ कभी धोखा नहीं किया। उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी लोगों ने हाथ उठाकर लालू प्रसाद यादव को अंतिम फैसला लेने के अधिकृत किया है। वहीं तेजस्वी यादव के बयान से ऐसा भी झलका जैसे कि वह विपक्ष में बैठने के तैयार हो गए हैं। उन्होंने कहा कि अब वह जनता की शरण में जाएंगे। वह बिहार के लोगों के लिए लगातार काम करते रहेंगे। वहीं भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह से सक्रिय दिखाई दे रही है। देर शाम बिहार में भाजपा के प्रभारी विनोद तावड़े राज्यपाल से मुलाकात करने भी पहुंचे थे। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें