ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारRRB-NTPC: बवाल पर खान सर का आरोपों से इनकार, बताया किसने आग में घी डाला

RRB-NTPC: बवाल पर खान सर का आरोपों से इनकार, बताया किसने आग में घी डाला

आरआरबी-एनटीपीसी परीक्षा को लेकर तीन दिनों से हो रहे बवाल के पीछे पटना प्रशासन कोचिंग संस्थानों पर उंगली उठा रहा है। कोचिंग वालों पर छात्रों को भड़काने का आरोप लग रहा है। ऐसे में कोचिंग के मामले में...

RRB-NTPC: बवाल पर खान सर का आरोपों से इनकार, बताया किसने आग में घी डाला
Yogesh Yadavपटना लाइव हिन्दुस्तानWed, 26 Jan 2022 09:29 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

आरआरबी-एनटीपीसी परीक्षा को लेकर तीन दिनों से हो रहे बवाल के पीछे पटना प्रशासन कोचिंग संस्थानों पर उंगली उठा रहा है। कोचिंग वालों पर छात्रों को भड़काने का आरोप लग रहा है। ऐसे में कोचिंग के मामले में छात्रों में सबसे ज्यादा चर्चित और यूट्यूबर खान सर पर भी आरोप लग रहे हैं। अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर खान सर ने सफाई दी है। 

खान सर ने भी मीडिया से बात करते हुए कहा कि आरआरबी ने जो कदम आज उठाया वो अगर 18 जनवरी को लिया होता तो इतना उपद्रव नहीं होता। हम लोगों ने 8 मीलियन ट्वीट कराया था, लेकिन आरआरबी ने अच्छा स्टेप ये उठाया है कि सारे स्टूडेंट से सुझाव मांगा है और कमिटी बना दी है।

खान सर ने कहा कि सबसे बड़ी समस्या यह आई कि 24 जनवरी को जब राजेंद्र नगर टर्मिनल पर 500 के करीब एनटीपीसी के छात्र हंगामा कर रहे थे, तभी आरआरबी ने ग्रुप डी वालों के लिए तीन बजे ऑफिशियल नोटिफिकेशन जारी कर दिया। एनटीपीसी के छात्र सोच रहे थे कि कुछ अच्छी सूचना मिलेगी लेकिन आरआरबी की नोटिफिकेशन ने आग में घी डालने का काम किया। बोर्ड का नोटिफिकेशन ग्रुप डी वालों के लिए था। नोटिफिकेशन में बताया गया था कि ग्रुप-डी के अभ्यर्थियों का अब मेंस एग्जाम लिया जाएगा।

ऐसे में ग्रुप डी के सिंगल एग्जाम वाले जो डेढ़ करोड़ छात्र हैं और एनटीपीसी छात्रों का हंगामा मीडिया के माध्यम से देख रहे थे, वे लोग परीक्षा की बात से उग्र हो गए और एनटीपीसी के छात्रों के साथ शामिल हो गए। अब जो हंगामा हो रहा है उनमें ग्रुप डी के ज्यादा छात्र हैं। यह सारी गलती आरआरबी की है।

खान सर ने कहा कि पहले ही एनटीपीसी गलती कर चुका था, जिससे छात्र गुस्से में थे। उसी वक्त आरआरबी ने नोटिफिकेशन जारी कर हंगामे को और बढ़ा दिया। हालांकि, अब आरआरबी ने परीक्षा स्थगित कर दी है।

खान सर ने कहा कि उनके बारे में अफवाह उड़ाई गई है। कहा कि आंदोलन करने वाले छात्रों को हम लोगों ने रोककर रखा है। उन्हें यह भी कहा था कि 26 जनवरी को कोई आंदोलन ना हो। पटना डीएम के बयान पर उन्होंने कहा कि वो कानून-व्यवस्था को देख रहे हैं, सुलझे व्यक्ति हैं। 

आरआरबी ने आग में घी डाला

खान सर ने कहा कि आरआरबी ने आग में घी डालने का काम किया है। आरआरबी की गलती की वजह से छात्र सड़कों पर उतरे हैं। आरआरबी ने जो एनटीपीसी सीबीटी-1 की परीक्षा ली, उसमें बोर्ड ने ग्रेजुएशन और इंटरमीडिएट दोनों के छात्रों को एक साथ बैठाया।

दोनों के ही छात्रों को सिंगल प्रश्न पत्र दे दिया। जबकि कट ऑफ अलग-अलग रखा। ग्रेजुएशन वालों का कट ऑफ अलग था, जबकि इंटरमीडिएट वाले छात्रों का अलग। ऐसे में निश्चित रूप से ग्रेजुएशन वाले भारी पड़ेंगे। दोनों को एक साथ मिलाकर रिजल्ट देने में गड़बड़ी हुई है। इंटरमीडिएट वालों को 20 गुना पर रिजल्ट देने का कहा गया था, लेकिन 10 गुना पर ही रिजल्ट मिला। 

वीडियो जारी कर की शांतिपूर्ण आंदोलन की अपील

इससे पहले खान सर ने छात्रों से अपील की कि आज 26 जनवरी है, देश का गणतंत्र दिवस है इसलिए आज कोई भी छात्र किसी तरह का आंदोलन न करें। दरअसल खान सर समेत दूसरे शिक्षकों पर छात्रों को आरआरबी एनटीपीसी रिजल्ट मामले में उकसाने का आरोप लग रहा था। इसके बाद खान सर ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर किया है। इससे उन्होंने छात्रों से अपील की है कि वो अपने आंदोलन को शांतिपूर्ण बनाए रखें, अगर हिंसा करेंगे तो कोई भी उनका साथ नहीं देगा।

epaper