DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › ज्यादा बारिश की वजह से नहीं कर पाए रोपनी? ऐसे किसानों को भी मुआवजा देगी नीतीश सरकार, इन्हें मिलेंगे छह हजार
बिहार

ज्यादा बारिश की वजह से नहीं कर पाए रोपनी? ऐसे किसानों को भी मुआवजा देगी नीतीश सरकार, इन्हें मिलेंगे छह हजार

वरीय संवाददाता,भागलपुरPublished By: Sneha Baluni
Thu, 16 Sep 2021 09:49 AM
ज्यादा बारिश की वजह से नहीं कर पाए रोपनी? ऐसे किसानों को भी मुआवजा देगी नीतीश सरकार, इन्हें मिलेंगे छह हजार

राजस्व एवं भूमि सुधार सह जिले के प्रभारी मंत्री राम सूरत कुमार ने कहा है कि वैसे किसानों को कृषि इनपुट का लाभ मिलेगा जो अतिवृष्टि के कारण खेतों में रोपनी नहीं कर सके या बिचड़ा नहीं लगा सके। मंत्री ने कहा कि सरकार के खजाने पर आपदा पीड़ितों का पहला हक है। उन गरीबों को 6000 रुपये दिए जा रहे हैं, जिनका घर बाढ़ में बह गया या लोग विस्थापित हो गए। 

मंत्री बुधवार को भागलपुर पहुंचे थे। वह गुरुवार को आपदा प्रबंधन विभाग की समीक्षा बैठक करेंगे। प्रभारी मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों के साथ बैठक की थी। बैठक में यह कहा गया था कि सभी प्रभारी मंत्री संबंधित जिलों में जाकर आपदा से क्षति की समीक्षा करें। इसी क्रम में गुरुवार को भागलपुर की समीक्षा होगी। 

उन्होंने कहा कि पहले यह व्यवस्था थी कि जिन किसानों की रोपनी बाढ़ में बह गई या गल गई उन्हें मुआवजा दिया जाएगा। फिर यह निर्णय लिया गया कि जिन किसानों का बिचड़ा डैमेज हो गया, उन्हें भी मुआवजा दिया जाएगा, लेकिन अब सरकार ने यह निर्णय लिया है कि जो किसान अतिवृष्टि के कारण खेती ही नहीं कर सके, उन्हें भी मुआवजा दिया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि फसल क्षति का आकलन हो रहा है। आकलन में जो रिपोर्ट आ रही है, वह अपलोड हो रही है। समीक्षा कर देखेंगे कि कितने की लिस्ट तैयार हुई है। भागलपुर में कितनी क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि अब बाढ़ आने का समय बाकी है। अंतिम रूप से जब रिपोर्ट तैयार हो जाएगी तो किसानों को मुआवजा का भुगतान किया जाएगा। 

मंत्री ने कहा कि समीक्षा बैठक में पिछली बैठक में दिए गए निर्देशों के अनुपालन की भी समीक्षा की जाएगी। पिछली बैठक में जो कमियां पायी गई थीं, उसे दूर किया गया है। इसकी भी समीक्षा होगी। उन्होंने कहा कि पिछली बैठक में उन्होंने निर्देश दिया था कि जो राजस्व कर्मचारी तीन साल से एक ही जगह पर जमे हैं, उनका तबादला करना है। जो शहरी हल्के में हैं, उन्हें ग्रामीण हल्के में तैनात करना है और ग्रामीण हल्के में अच्छा काम करने वाले कर्मचारियों को शहरी हल्के में काम करने का मौका देना है। 

इन निर्देशों का कितना पालन हुआ इसकी समीक्षा की जाएगी। मंत्री ने कहा कि बेइमान, निकम्मे और भ्रष्टाचार के आरोपित कर्मचारियों पर कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया गया था। उन्होंने कहा कि भागलपुर शहर में स्मार्ट सिटी योजना से कई विकास कार्य कराये जाएंगे। अगर कोरोना की तीसरी लहर नहीं आयी तो विकास कार्यों में और तेजी आएगी।

संबंधित खबरें