ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार4 साल पहले जैसे पिता की हुई थी मौत, बेटे की भी ट्रेन से कटकर गई जान; 3 दिन बाद होनी थी बहन की शादी

4 साल पहले जैसे पिता की हुई थी मौत, बेटे की भी ट्रेन से कटकर गई जान; 3 दिन बाद होनी थी बहन की शादी

चार साल पहले जहां पिता की जान गई थी, वहीं बेटे की भी ट्रेन से कटकर मौत हो गई। दिल दहला देने वाली यह घटना भागलपुर की है। तीन दिन बाद मृतक के बहन की शादी होने वाली थी।

4 साल पहले जैसे पिता की हुई थी मौत, बेटे की भी ट्रेन से कटकर गई जान; 3 दिन बाद होनी थी बहन की शादी
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,भागलपुरMon, 20 Nov 2023 09:38 PM
ऐप पर पढ़ें

चार साल पहले जहां पिता की जान गई थी, वहीं बेटे की भी ट्रेन से कटकर मौत हो गई। दिल दहला देने वाली यह घटना भागलपुर जिले के बायपास टीओपी थाना क्षेत्र अंतर्गत भागलपुर-दुमका रेलखंड पर मकसूदपुर रेल पुल के समीप हुई। तीन दिन बाद 23 नवंबर को युवक की बहन की शादी होनी थी। इस घटना के बाद से उसके घर में मातम का माहौल है। बताया जा रहा है कि युवक रेल पुल के समीप कान में ईयर फोन लगाकर चल रहा था। उसकी पहचान बायपास टीओपी थाना क्षेत्र के मकसपुर ग्राम निवासी महेश तांती के पुत्र सुरेंद्र तांती (18 वर्ष) के रूप में हुई है। 

बहन की शादी में शामिल होने आया था घर
प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि भागलपुर-दुमका रेलखंड पर कबीर गुरु एक्सप्रेस ट्रेन दुमका जा रही थी। इसी बाच सुरेंद्र रेल लाइन के किनारे होकर अपने घर से गोनू धाम मंदिर जा रहा था। उसने हाथ में मोबाइल रखा हुआ था और ईयर फोन उसके कान में लगा था। इसी दौरान वह ट्रेन की चपेट में आ गया। वह राजकोट में मजदूरी करता था। बहन की शादी में शामिल होने के लिए वह घर आया था। इधर, घटना की सूचना पाकर बायपास टीओपी पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। टीओपी थानाध्यक्ष ओमप्रकाश ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। रेल पुलिस को भी घटना की जानकारी दे दी गयी है। 

चार साल पहले इसी जगह पिता की हुई थी मौत
मृतक के परिजनों ने बताया कि जिस जगह सुरेंद्र की मौत हुई, उसी जगह उसके पिता महेश तांती की भी चार साल पहले मौत हुई थी। पिता की मौत के बाद से सुरेंद्र ही अपने परिवार का भरण-पोषण करता था। उसके भाई पिंटू कुमार ने बताया कि पिता और उसके भाई की मौत के बाद अब परिवार के भरण-पोषण पर भी मुसीबत आ गई है। सुरेंद्र पांच बहनें और तीन भाई था। वह परिवार का दूसरा बेटा था, जबकि उसकी चौथी बहन की शादी 23 नवंबर को होनी थी। बहरहाल, परिजन समेत अन्य ग्रामीण सुरेंद्र के श्राद्ध कर्म में जुट गए हैं।