ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारआरजेडी ने भारत में अमेरिका का विलय छोड़ दिया; तेजस्वी के चुनाव घोषणापत्र की मांझी ने खिल्ली उड़ाई

आरजेडी ने भारत में अमेरिका का विलय छोड़ दिया; तेजस्वी के चुनाव घोषणापत्र की मांझी ने खिल्ली उड़ाई

बिहार के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के चीफ जीतन राम मांझी ने आरजेडी के घोषणा पत्र का मजाक उड़ाया है। पूर्व सीएम ने तेजस्वी यादव को अमेरिका को भारत में मिलाने सहित कई सुझाव दिए हैं।

आरजेडी ने भारत में अमेरिका का विलय छोड़ दिया; तेजस्वी के चुनाव घोषणापत्र की मांझी ने खिल्ली उड़ाई
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 13 Apr 2024 05:33 PM
ऐप पर पढ़ें

लालू यादव की पार्टी और बिहार में इंडिया गठबंधन में बड़े भाई की भूमिका निभा रहे आरजेडी का चुनावी घोषणा पत्र सामने आते ही सियासी भूचाल आ गया है। शनिवार को पटना स्थित प्रदेश कार्यालय में तेजस्वी यादव ने जगदानंद सिंह, अब्दुल बारी सिद्दीकी, मनोज झा समेत कई नेताओं की मौजूदगी में आरजेडी का मेनिफेस्टो परिवर्तन पत्र जारी किया। नेशनल लेवेल पर अपनी पार्टी का एजेंडा सेट करने और इंडी की सरकार बनने पर देश भर में एक करोड़ सरकारी नौकरी देने के आश्वासन पर एनडीए के सभी दल हमलावर हैं। बिहार के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के चीफ जीतन राम मांझी ने आरजेडी के घोषणा पत्र का मजाक उड़ाया है। पूर्व सीएम ने तेजस्वी यादव को अमेरिका को भारत में मिला लेने सहित कई सुझाव दिए हैं।

सोशल मीडिया हैंडल एक्स पर जीतन राम मांझी ने अपनी बात रखी है। उन्होंने  व्यंग किया है कि ये मुद्दे राजद की घोषणा पत्र में शामिल नहीं किए जा सके। उन्होंने लिखा है- 

राजद के घोषणा पत्र में शायद कुछ बातें छूट गई हैं,जो निम्नलिखित हैं…

#भारत में अमेरिका का विलय करेंगें
#सूरज पश्चिम से उगाएंगें
#समुद्र के पानी को मीठा बना देंगें
#पहाड़ हवा में उडेगा।
अब जब तेजस्वी यादव जी को पता है कि उनकी सरकार बन ही नही रही तो वह कुछ भी घोषणा कर सकतें हैं।

इससे पहले एनडीए के अन्य घटक दलों ने भी तेजस्वी के बयान और राजद के परिवर्तन पत्र पर सवाल उठाया। जेडीयू प्रवक्ता नीरज ने कहा कि तेजस्वी यादव की  पार्टी मात्र 23 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। अब इतनी कम सीटों पर चुनाव लड़ने वाले नेता देश का एजेंडा सेट कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि-  अपना रामा-दामा और दूसरे का गिरथामा। तेजस्वी यादव से जेडीयू नेता ने पूछा कि आरजेडी की राजनीति में औकात ही क्या है।  राजद पर अपने सहयोगी दलों कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों की अवहेलना का भी आरोप लगाया।  कहा कि तेजस्वी यादव ने सहयोगी दलों को इस लायक भी नहीं समझा कि घोषणा पत्र जारी वक्त करते उन दलों के नेताओं को बगल में बैठाया जाए।

बीजेपी के बिहार प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि तेजस्वी यादव का आईक्यू लेवेल कम हो गया है। 20-25 सीटों पर चुनाव लड़कर कैसे परिवर्तन कर लेंगे। उन्होंने कहा कि आरजेडी का परिवर्तन पत्र झूठ का पुलिंदा है। जनता की आंखों में धूल झोंकने की कोशिश की जा रही है। उन्हें पता है कि कोई परिवर्तन नहीं होना है इसलिए परिवर्तन पत्र में बड़े-बड़े वायदे कर दिए हैं।

लोजपा आर के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी तेजस्वी यादव द्वारा जारी मेनिफेस्टो पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि लंबे समय तक इन्हीं के परिवार के लोग सत्ता में रहे। उस समय कैसे नौकरियां बांटी गईं यह पूरा देश जानता है। चुनावी मौसम में बड़े बड़े वादे किए जा रहे हैं। बाद में बहाने बनाकर उन्हें टाल दिए जाते हैं।


 शनिवार को घोषणा पत्र जारी करने के बाद तेजस्वी यादव ने  बताया कि अगर इंडिया अलायंस की सरकार बनी तो  एक करोड़ लोगों को सरकारी नौकरी दी जाएगी। हमारी पार्टी दो करोड़ सलाना नौकरी की झूठी बात नहीं बोलेगी। हम जो कहते हैं उसे करके दिखाते हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त से इसकी शुरुआत हो जाएगी। रक्षाबंधन से गरीब परिवार की बहनों को हर साल एक लाख रुपए की सहायता दी जाएगी। अगर इंडी की सरकार बनी तो 500 रुपए में गैस सिलेंडर मिलेगा। पुरानी पेंशन योजना लागू करेंगे, और बिहार में विशेष राज्य का दर्जा दिलाएंगे। साथ ही बिहार को अलग से भी स्पेशल पैकेज देंगे जो करीब एक लाख 60 हजार करोड़ का होगा। देश में 4 साल की अग्निवीर योजना को बंद किया जाएगा और ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले पैरा मिलिट्री फोर्सेस के जवानों को शहीद का दर्जा दिया जाएगा। बिहार में अच्छी कनेक्टिविटी के लिए 5 नए एयरपोर्ट बनवाएंगे जो  पूर्णिया, भागलपुर, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और रक्सौल में स्थापित होंगे।मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू किया जाएगा। औद्योगिकीकरण को बढ़ावा दिया जाएगा, स्वास्थ्य का अधिकार पूरे देश में लागू करेंगे ताकि सभी को फ्री हेल्थ सेवा मिल सके।  सरकार आई तो 200 यूनिट फ्री बिजली देने का काम करेंगे। 10 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाएंगे, स्वामीनाथन रिपोर्ट की जो सिफारिशें हैं, वो देश में लागू करेंगे।