DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस बार टिकट देने में युवाओं पर होगा जदयू का फोकस

प्रशांत किशोर

पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष पद जीतने के बाद जदयू के हौसले बुलंद हैं। इसी उत्साह से वह राज्य के अन्य विश्वविद्यालयों के चुनाव में भी जदयू बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेगा। इसकी तैयारी पार्टी ने शुरू कर दी है। 

इस अभियान के तहत एक तरफ जदयू जहां अधिक-से-अधिक युवाओं को पार्टी में जोड़ने के अभियान में लगा है, वहीं, 2019 के लोक सभा और 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपनी तैयारी कर रहा है। वर्ष 2020 विधानसभा चुनाव में पार्टी को जोर युवाओं पर होगा। विधायकों की औसत उम्र 45 वर्ष हो, इसी के आधार पर जदयू विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों को टिकट देगी। एक ओर जहां अनुभवी प्रत्यशियों को मौका मिलेगा तो दूसरी ओर 35 अथवा इससे भी कम उम्र के युवाओं को जदयू मैदान में उतारेगा। इसको लेकर पार्टी में मंथन शुरू हो चुका है। संकेत साफ है कि युवाओं की भागीदारी पार्टी बढ़ायेगी। 

इसे लेकर जदयू अगले दो सालों में एक लाख युवाओं को सदस्य बनाने की कवायद में जुट गया है। इसमें मुख्य भूमिका में हैं पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर। राज्यभर के युवाओं से वे खुद मुखातिब हो रहे हैं। सदस्य बनने की चाह रखने वाले युवाओं से प्रशांत किशोर व्यक्तिगत रूप से मिलते हैं। फिर उसे पार्टी का सदस्य बनाया जाता है। अगले दो सालों में वह जिन एक लाख युवाओं मिलेंगे, उनकी उम्र 35 वर्ष से कम होगी। साथ ही इनका कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं होगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:JDUs focus will be on youngsters this time for Lok Sabha Elections in Bihar