ITI can no longer accept seats higher than seats - हिन्दुस्तान एक्सक्लूसिव: आईटीआई अब नहीं ले सकते सीटों से अधिक दाखिला DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिन्दुस्तान एक्सक्लूसिव: आईटीआई अब नहीं ले सकते सीटों से अधिक दाखिला

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) में अब स्वीकृत सीटों से अधिक दाखिला नहीं होगा। अब तक आईटीआई में सुपर न्यूमेरी व्यवस्था के तहत मंजूर सीटों से अधिक दाखिला लिया जा रहा था। केंद्र सरकार ने आदेश जारी कर दाखिले की इस व्यवस्था पर रोक लगा दी है। हालांकि नए आदेश में अब तक आईटीआई में जितनी सीटों पर दाखिला हो रहा था, उतनी सीटों की स्थाई मंजूरी दे दी गई है। इस नियम पर आईटीआई में 30 फीसदी सीटों की स्थाई वृद्धि हो गई है। 

श्रम संसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार अब तक की व्यवस्था में अगर किसी विषय (ट्रेड) में 10 सीट है तो वे 12, 12 वाले में 16, 16 वाले सीट वाले में 20 तो 20 वाले में 24 छात्रों का दाखिला ले रहे थे। इसके पीछे तर्क यह था कि अगर दाखिला लेने के बाद कोई छात्र दो साल के पहले ही पढ़ाई छोड़ दे तो आईटीआई संचालकों को कोई नुकसान न हो। दाखिला लेने सभी छात्र अगर अपनी पढ़ाई जारी रखते थे तो आईटीआई संचालकों को लाभ हो जाता था। लेकिन इस व्यवस्था में कई तरह की अनियमितता की शिकायतें आ रही थीं। राज्य से लेकर केंद्र सरकार तक यह शिकायत पहुंची कि मंजूर सीट से अधिक दाखिला लेने में कई तरह के खेल हो रहे हैं। इस खेल में विभाग से लेकर आईटीआई संचालक तक शामिल होते हैं। बदले में एडमिशन लेने वालों से मोटी रकम की वसूली होती है। 

इस खेल पर रोक लगाने के लिए केंद्र सरकार ने पिछले दिनों एक आदेश जारी किया। कहा कि अब मंजूरी से अधिक सीटों पर आईटीआई में दाखिला नहीं होगा। हालांकि सरकार ने पत्र में यह भी कहा कि अब तक हो रहे दाखिला के अनुसार आईटीआई की सीटें बढ़ा दी गई हैं। इस कारण सभी आईटीआई में 30 फीसदी तक सीटें बढ़ गई हैं। पुराने नियम के अनुसार दो वर्षीय आईटीआई में पिछले साल लगभग एक लाख मंजूर सीटों की तुलना में एक लाख 22 हजार से अधिक छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे। नए नियम में एक लाख 22 हजार सीटें स्थाई हो जाएंगी। बढ़ी हुई सीटों में गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण वाली सीटें भी शामिल हैं। केंद्र का यह आदेश इसी सत्र से प्रभावी होगा। 

ऐसे बढ़ी है सीटें  
टर्नर व मैकेनिस्ट में 12 से 20, मैकेनिक डीजल, मोटर, टूल्स, टूल एंड डाईमेकर, लिफ्ट और केमिकल प्लांट में 16 से 24 तो एसी मैकेनिक व टेक्निशियन ट्रेड में  20 से 24 सीट कर दी गई है, जबकि बाकी ट्रेडों में 10 से 12, 12 से 16, 16 से 20 और 20 से 24 सीटें हो गई हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ITI can no longer accept seats higher than seats