ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार के इस शहर में बेहोश होने लगीं मैट्रिक की छात्राएं, वजह जान चौंक पड़ेंगे; SDO ने दिए जांच के आदेश

बिहार के इस शहर में बेहोश होने लगीं मैट्रिक की छात्राएं, वजह जान चौंक पड़ेंगे; SDO ने दिए जांच के आदेश

एमएसकेबी सेंटर पर छात्राओं के परीक्षा थी। एग्जाम खत्म होने के बाद छात्राएं बाहर निकलीं और पानी पीने गई। पानी पीते ही छात्राएं पेट दर्द की शिकायत करने लगीं इसमें से तीन-चार बेहोश भी हो गईं।

बिहार के इस शहर में बेहोश होने लगीं मैट्रिक की छात्राएं, वजह जान चौंक पड़ेंगे;  SDO ने दिए जांच के आदेश
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,मुजफ्फरपुरThu, 22 Feb 2024 09:31 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के मुजफ्फरपुर में महिला शिल्प कला भवन परीक्षा केंद्र पर उस समय बुधवार को अफरा तफरी मच गई जब मैट्रिक की छात्राएं बेहोश होने लगीं। दरअसल पानी पीने के बाद यह छात्राएं बीमार हो गईं लगभग डेढ़ दर्जन छात्राएं पेट दर्द की शिकायत करने लगीं तो उन्हें स्थानीय सदर अस्पताल और एसकेएमसीएच में भर्ती कराया गया। में भर्ती कराया गया। छात्राओं की हालत जानने अस्पताल पहुंचे एसडीओ पूर्वी अमित कुमार ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति, बीएसईबी(बिहार बोर्ड) द्वारा मैट्रिक की परीक्षा ली जा रही है।

जानकारी के मुताबिक बुधवार को मैट्रिक की अंतिम परीक्षा थी। एमएसकेबी सेंटर पर छात्राओं के परीक्षा थी। एग्जाम खत्म होने के बाद छात्राएं बाहर निकलीं और पानी पीने गई। पानी पीते ही  छात्राएं पेट दर्द की शिकायत करने लगीं इसमें से तीन-चार बेहोश भी हो गईं। अन्य छात्राएं बेचैनी और घबराहट की शिकार हो गई। आनन फानन में उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया। छात्राओं की शिकायत है कि पानी में दुर्गंध था। एक छात्रा की खराब हालत को देखते हुए ऑक्सीजन सपोर्ट देने पड़ा।


केंद्र के अधीक्षक रघुनाथ भगत ने बताया की परीक्षा के आखिरी समय में पेट दर्द की शिकायत लेकर छात्राएं आई थीं। हालांकि उन्होंने दूषित जल को लेकर कुछ भी करने से इनकार कर दिया।  जिले के अन्य केनद्रों पर भी छात्रों के बीमार होने की सूचना है। डेढ़ दर्जन से ज्यादा छात्राओं का  इलाज कराया गया।  जानकारी के मुताबिक कांटी में भी चार छात्रा की तबीयत बिगड़ गई। उन्हें एंबुलेंस के सहारे कांटी कम्युनिटी हेल्थ सेंटर में भर्ती कराया गया। इलाज के बाद उन्हें घर पहुंचा दिया गया।

एसडीओ पूर्वी अमित कुमार छात्रों को देखने सदर अस्पताल और एसकेएमसीएच पहुंचे। उन्होंने बताया कि पानी या किसी वजह से छात्राएं बीमार हुई हैं इसकी जांच कराई जाएगी।  फिजिशियन राहुल सिंह ने बताया कि संभवत पानी टंकी की सफाई ज्यादा दिनों से नहीं हो पाई है। इस कारण पानी में हेवी मेटल जमा हो गया होगा। उसे पानी को पीने से छात्राओं का नर्वस सिस्टम प्रभावित हो गया है।  

एसडीओ ने कहा है कि सभी छात्राएं ठीक-ठाक हैं।  हालांकि एसकेएमसीएच में एक छात्रा को ऑक्सीजन सपोर्ट देना पड़ा।  जानकारी के मुताबिक बीमार होने वाली अधिकांश छात्राएं मीनापुर की रहने वाली थीं जिनकी परीक्षा एमएसकेबी सेंटर पर थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें