DA Image
5 मार्च, 2021|5:12|IST

अगली स्टोरी

दानापुर टाटा एक्सप्रेस की गलत सूचना से छूटी सैकड़ों यात्रियों की ट्रेन, जांच के आदेश, आरआरआई के पीए को सस्पेंड किया

दानापुर से टाटा जाने वाली दानापुर टाटा एक्सप्रेस (ट्रेन संख्या 08184) शनिवार की सुबह सैकड़ों यात्रियों के लिए मुसीबत की ट्रेन बन गई। रेलवे के आरआरआई व उदघोषणा करने वाली एजेंसी के कर्मी के बीच तालमेल नहीं बैठ पाने की वजह से ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर एक की बजाए तीन पर आ गई। उद्घोषणा के अनुरूप ट्रेन के यात्री प्लेटफॉर्म संख्या एक पर ट्रेन के आने का इंतजार करते रहे, इसी बीच ट्रेन प्लेटफॉर्म संख्या तीन पर आकर चली भी गई। इसमें कई यात्रियों की ट्रेन भी छूट गई। इसके बाद प्लेटफॉर्म नंबर एक के वीवीआईपी रूम के पास हंगामा भी हुआ। हंगामा की सूचना दानापुर कंट्रोल को देने के बाद दूसरी ट्रेन से यात्रियों को बख्तियारपुर के समीप एक स्टेशन पर दानापुर टाटा में शिफ्ट कराया गया। वहीं, इस मामले में दानापुर डीआरएम ने जंक्शन के निदेशक को गहनता से जांच के आदेश जारी करते हुए आरआरआई के पीए को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड भी कर दिया।

दानापुर टाटा एक्सप्रेस से जमुई, मधुपुर, चितरंजन, आसनसोल होते टाटा व अन्य स्टेशनों को जाने वाले सैकड़ों यात्री ट्रेन पकड़ने के लिए पटना जंक्शन के प्लेटफॉर्म नंबर तीन पर इंतजार कर रहे थे। इसी बीच रेलवे के डिजिटल बोर्ड व उद्घोषणा प्रणाली के जरिए इस ट्रेन के प्लेटफॉर्म संख्या एक पर आने की सूचना जारी हो गई। आनन-फानन में ट्रेन के कमोबेश सभी यात्री प्लेटफॉर्म नंबर एक पर आ गए। यात्री प्लेटफॉर्म संख्या एक पर ट्रेन के आने का इंतजार करते रहे, लेकिन ट्रेन नहीं आई। इसी बीच पता चला कि प्लेटफॉर्म संख्या तीन से ही ट्रेन आकर चली गई। जब तक यात्रियों को पता चला तो ट्रेन के गार्ड व यात्रियों ने वैक्यूम यानी एसीपी अप्लाई की, लेकिन तब तक ट्रेन जंक्शन परिसर को छोड़ यार्ड तक पहुंच गई थी। 

यार्ड में ट्रेन 20 मिनट तक खड़ी रही। इस बीच कुछेक यात्रियों ने पैदल जाकर ट्रेन पकड़ लिया। लेकिन महिला, बच्चे व बुजुर्ग यात्री जंक्शन के प्लेटफॉर्म एक पर ही रह गए। ट्रेन छूटने व गलत उद्घोषणा से आक्रोशित यात्रियों ने वीवीआईपी रूम के पास जमकर हंगामा किया। रेलवे अधिकारियों ने हंगामे व मामले की सूचना दानापुर कंट्रोल को दी। फिर आनन-फानन में कंट्रोल ने दानापुर से राजगीर जाने वाली ट्रेन से यात्रियों को ट्रेन पकड़ाने का आश्वासन दिया, तब यात्री शांत हुए। इसके बाद जंक्शन के प्लेटफॉर्म नंबर एक पर इस ट्रेन को लगाया गया व दानापुर टाटा के यात्रियों को बख्तियारपुर के पास टेकाबिगहा स्टेशन पर मेल दिया गया। वहीं, इस मामले में रेलवे द्वारा उद्घोषणा प्रणाली की व्यवस्था निजी एजेंसी व दक्ष कर्मियों के हाथों में नहीं होने के मामले में भी सवाल उठने लगे हैं। पहले भी इस तरह की लापरवाही से यात्री परेशान होते रहे हैं।

उद्घोषणा कर्मी की गलती से यात्रियों को हुई परेशानी
डीआरएम सुनील कुमार के निर्देश पर जंक्शन निदेशक डॉ. नीलेश कुमार ने मामले की गहनता व सूक्ष्मता से जांच की। जांच में आरआरआई के पीए ने स्पष्टीकरण दिया है कि उसने उद्घोषणा कर्मी को ट्रेन नंबर 08184 दानापुर टाटा एक्सप्रेस के प्लेटफॉर्म संख्या तीन पर आने की सूचना दी थी। रिकॉर्ड में भी प्लेटफॉर्म नंबर तीन अंकित है। वहीं, उद्घोषणा करने वाली एजेंसी के अंकित राज ने भी अपने सिस्टम में प्लेटफॉर्म संख्या तीन अंकित किया। लेकिन अंतिम समय में उसने रिफ्रेश बटन दबाया तो पहले के डाटा के अनुरूप डिस्प्ले व उद्घोषणा में प्लेटफॉर्म नंबर एक हो गया। इसी गलती की वजह से यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ी। उद्घोषणा कर्मी ने भी लिखित रूप से अपनी गलती स्वीकार की है। साथ ही इस मामले में आरआरआई के पीए राजेश कुमार अपने स्तर से सही पाए गए हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:hundreds of passengers missed by misinformation of danapur tata express